Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

राह हमारे विद्यालय की

जहाँ हरियाली हो सड़क किनारे
जहाँ मन में कान्हा बसते हों
जहाँ दिल जपता हो राधे राधे
जहाँ बादल रंग बरसते हों
ये राह हमारे विद्यालय की
दिल खुशियों से भर जाती
वो खुशबू वृन्दावन वाली
साँसों में सुबह उतर जाती
यहाँ भक्तजनों का आना जाना
यहाँ हर कोई कन्हैया दीवाना
ये राह चौरासी परिक्रमा
है स्वर्ग क्या, ये पहचाना
… भंडारी लोकेश ✍️

Language: Hindi
1 Like · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
*रंगों का ज्ञान*
*रंगों का ज्ञान*
Dushyant Kumar
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
क़ाफ़िया तुकांत -आर
क़ाफ़िया तुकांत -आर
Yogmaya Sharma
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
हाईकमान (हास्य व्यंग्य)
हाईकमान (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
दुनिया में कहीं से,बस इंसान लाना
दुनिया में कहीं से,बस इंसान लाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!
हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!
Diwakar Mahto
हे प्रभु इतना देना की
हे प्रभु इतना देना की
विकास शुक्ल
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
शाकाहार स्वस्थ आहार
शाकाहार स्वस्थ आहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
" लक्ष्य सिर्फ परमात्मा ही हैं। "
Aryan Raj
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
वो
वो
Ajay Mishra
" मैं सिंह की दहाड़ हूँ। "
Saransh Singh 'Priyam'
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
अनिल कुमार
वृक्षों की भरमार करो
वृक्षों की भरमार करो
Ritu Asooja
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
रिश्ते चाहे जो भी हो।
रिश्ते चाहे जो भी हो।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
..
..
*प्रणय प्रभात*
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
कुछ पाने की कोशिश में
कुछ पाने की कोशिश में
Surinder blackpen
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
शरद पूर्णिमा का चांद
शरद पूर्णिमा का चांद
Mukesh Kumar Sonkar
जब सावन का मौसम आता
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
Loading...