Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2024 · 1 min read

राह मुश्किल हो चाहे आसां हो

राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
हमसफ़र हो, नहीं हो फर्क़ नहीं
मैं अकेले हीं चल रही हूँ,और
मैं अकेले हीं चलना चाहती हूँ।
ज़िंदगी भर उदास,तन्हा रही
क्या कही और क्या अनकही
मैं अकेले हीं सुन रही हूँ और
मैं अकेले हीं सुनना चाहती हूँ।

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
आम आदमी
आम आदमी
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
इतिहास
इतिहास
श्याम सिंह बिष्ट
महादान
महादान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वसंत की बहार।
वसंत की बहार।
Anil Mishra Prahari
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
सत्य कुमार प्रेमी
मंगल दीप जलाओ रे
मंगल दीप जलाओ रे
नेताम आर सी
ज़िंदगी की कड़वाहट से ज़्यादा तल्ख़ी कोई दूसरी नहीं। आदत डाल ली
ज़िंदगी की कड़वाहट से ज़्यादा तल्ख़ी कोई दूसरी नहीं। आदत डाल ली
*Author प्रणय प्रभात*
কি?
কি?
Otteri Selvakumar
शिक्षा व्यवस्था
शिक्षा व्यवस्था
Anjana banda
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
DrLakshman Jha Parimal
"वैसा ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
"ख़ूबसूरत आँखे"
Ekta chitrangini
नादानी
नादानी
Shaily
टिक टिक टिक
टिक टिक टिक
Ghanshyam Poddar
2434.पूर्णिका
2434.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
थोड़ा  ठहर   ऐ  ज़िन्दगी
थोड़ा ठहर ऐ ज़िन्दगी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रमेशराज के बालगीत
रमेशराज के बालगीत
कवि रमेशराज
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
हुआ चैत्र आरंभ , सुगंधित कपड़े पहने (कुंडलिया)
हुआ चैत्र आरंभ , सुगंधित कपड़े पहने (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गुरु असीम ज्ञानों का दाता 🌷🙏
गुरु असीम ज्ञानों का दाता 🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
Rj Anand Prajapati
मौहब्बत की नदियां बहा कर रहेंगे ।
मौहब्बत की नदियां बहा कर रहेंगे ।
Phool gufran
पाँच सितारा, डूबा तारा
पाँच सितारा, डूबा तारा
Manju Singh
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
Neelam Sharma
Loading...