Oct 13, 2016 · 1 min read

राहो में हम अब तुम्हारी क्यों आये/मंदीप

राहो में हम अब तुम्हारी क्यों आये,
बेवजय किसी की याद में आँसू क्यों बहाये।

जले थे जिस के प्यार में हम ,
अब क्यों उस को गले से लगाये।

हम ने की महोबत सच्ची एक ही बार,
फिर क्यों किसी गैर को अपना बनाये।

था जिस पर अपने आप से ज्यादा यकीन,
अब सच्चे प्यार की उम्मीद किस से लगाये।

निकल नही पाया अब तक दिल मेरा,
तुम्हारे सिवा इस दिल को कौन बाये।

मंदीपसाई

109 Views
You may also like:
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Little baby !
Buddha Prakash
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
राम राज्य
Shriyansh Gupta
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
Is It Possible
Manisha Manjari
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
An abeyance
Aditya Prakash
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
पुस्तक समीक्षा-"तारीखों के बीच" लेखक-'मनु स्वामी'
Rashmi Sanjay
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
Loading...