Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

राष्ट्र बेल

मुक्तक
राष्ट्र-बेल को ज्ञान-बल, प्रेम- नीर से सींच।
कीडे जो छुप खा रहे, उनका जबडा खींच।
पुष्प,पत्र,फल में महक, मधुर रहेगा स्वाद।
देख अनैतिकता कहीं, मत लेना दृग मींच।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
1 Like · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
View all
You may also like:
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
Shyam Sundar Subramanian
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
Atul "Krishn"
शिक्षा व्यवस्था
शिक्षा व्यवस्था
Anjana banda
फूल ही फूल
फूल ही फूल
shabina. Naaz
प्यार के बारे में क्या?
प्यार के बारे में क्या?
Otteri Selvakumar
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr Shweta sood
परित्यक्ता
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बाल कविता: नदी
बाल कविता: नदी
Rajesh Kumar Arjun
माँ
माँ
Kavita Chouhan
■ जय लोकतंत्र■
■ जय लोकतंत्र■
*Author प्रणय प्रभात*
"कोरा कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Godambari Negi
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
Shashi kala vyas
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-523💐
💐प्रेम कौतुक-523💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रबुद्ध कौन?
प्रबुद्ध कौन?
Sanjay ' शून्य'
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
Kanchan Khanna
रिश्तों की कसौटी
रिश्तों की कसौटी
VINOD CHAUHAN
Preparation is
Preparation is
Dhriti Mishra
2466.पूर्णिका
2466.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीवन गति
जीवन गति
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सुबह-सुबह उठ जातीं मम्मी (बाल कविता)
सुबह-सुबह उठ जातीं मम्मी (बाल कविता)
Ravi Prakash
मात -पिता पुत्र -पुत्री
मात -पिता पुत्र -पुत्री
DrLakshman Jha Parimal
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
Neeraj Naveed
घोंसले
घोंसले
Dr P K Shukla
Loading...