Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2023 · 3 min read

*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*

राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द

हिंदी छंदो में मात्रा घटाने बढ़ाने के लिए शब्दों की तोड़ फोड़ नहीं चलती है , और न हम आपको उचित मानना चाहिए |🙏
न की जगह ना ×
कोई की जगह कोइ×
माई की जगह माइ
भाई की जगह भाइ
गाई की जगह गाइ
नहीं की जगह नहिं
शहनाई की जगह शहनाइ
सफाई की जगह सफाइ

इत्यादि कई शब्द है

खड़ी हिंदी के दोहों में खाय पाय हौय तोय आय जाय , जैसे देशज शब्द नहीं चलते है
इसका कारण क्रिया है , जैसे आय से आना क्रिया नहीं है , आय‌ का हिंदी में अर्थ आमदनी है , पर देशज में आय शब्द आना (इन कमिंग )में प्रचलित है , इसी तरह गाने की हिंदी में गाय क्रिया नहीं है , गाय का हिंदी में आशय गौमाता है
एवं ऐसे शब्द इसलिए स्वीकार नहीं हैं क्योंकि ये खड़ी हिंदी के नहीं हैं।
रोना क्रिया से रोय नही बनता है
सोना क्रिया से सोय नही बनता है
होना क्रिया से होय नहीं बनता है
कोय की जगह सही शब्द कोई है
जाना क्रिया से जाय नहीं बनता है
पाना क्रिया से पाय नहीं बनता है
करना” क्रिया से करेय नहीं बनता है
देना क्रिया से देय नहीं बनता है
हिंदी में देय का अर्थ है बकाया राशि
जाना क्रिया से जात नहीं बनता है ,
गाना क्रिया से गात नहीं बनता है
इत्यादि बहुत सी बातें है
पर यह देशज भाषा में चलते है

अत: खड़ी हिंदी के दोहों में देशज शब्दों से बचकर चलने का परामर्श दिया जाता है

मेरा किसी की रचना पर संकेत नहीं है , अमूमन हम अपनी देशज भाषा से बच नहीं पाते है , पर प्रयास करने पर , राष्ट्रभाषा शुद्ध खड़ी हिंदी में लिख सकते है ,
एक बार मित्रों को सादर परामर्श देना आवश्यक लगा सो निवेदन कर दिया है | शेष आप जैसा उचित समझें , सृजन में शुद्ध हिंदी लेखन का सही अभ्यास आपको करना है या नहीं , आपके अपने विवेक के ऊपर है
तर्क हेतु
साथी मित्र तुलसी कृत पूज्य रामचरितमानस का उदाहरण प्रस्तुत करते है , तब निवेदन करना पड़ता है कि तुलसीकृत मानस मूलत: अवधी_भाषा में लिखी गई है , जिसमें बबेरू ( बाँदा ) के शब्दों के साथ , कुछ बुंंदेली शब्द भी प्रयोग है , पहले लोग मानस को कंठस्थ याद करते थे , और तुलसीकृत रामचरितमानस मानस , हिंदुस्तान के हर प्रांत अंचल में पहुँची है , गायको ने भी जनश्रुति में अपनी बोली में मुखसुख के हिसाब से गाया , जिसमें कुछ शब्द बदल गये ,
आज भी किसी के अंचल के गायक से ज्ञात कर लीजिए कि , गायन के समय जब मात्रा घटती बढ़ती है , व लय टूट का खतरा‌ रहता है , तब वह शब्द की मात्रा को कैसे आरोह अवरोह में चबा जाते है |

पानी और बाणी हर दस कोस ( मील) पर बदलती है , जिसकी चपेट में शब्द आ ही आते है , खैर
रामचरितमानस कई प्रकाशन के दौर से गुजरी है , जिसमें बम्बई छापाखाना की छपी पहले प्रसिद्ध हुई , पर इसके आगे , पूज्य हनुमान प्रसाद पोद्दार जी ने गीता प्रेस की स्थापना कर ,सही मानस ग्रंथ को प्रकाशित किया है , परिष्कृत किया है |

पर दोहा विधान मानस का और आज का सही है , इसी तरह सूरदास जी के पद ब्रजभाषा में लिखे गये है , एवं मीराबाई ने अपने पद ब्रजमिश्रित राजस्थानी में लिखे है , रहीम जी ने भी ब्रजभाषा में लिखा है |
पर जब राष्ट्र भाषा में स्कूली पाठ्यक्रम में रीतिकाल भक्तिकाल कवियों का साहित्य शामिल किया गया , तब पुस्तक सम्पादकों ने कई देशज शब्दों को हिंदी में बदल दिया |
जैसे – कबीर जी के , काल करे बाले दोहे का पदांत अब्ब की जगह अब कर दिया , कब्ब की जगह कब कर दिया , जिससे सम चरण की मात्रा 10 हो गई , अब कोई वह दोहा उदाहरण देकर दस मात्रा को सही ठहराए तो क्या कर सकते है |,
रहीम जी ने ब्रजभाषा में अपने दोहे में खुद को रैमन लिखा , पर पुस्तक सम्पादको ने रहिमन कर दिया , उन्हें दग्धाक्षर या दोहे के पदांत “_ताल ” से क्या मतलब है

कबीर जी ने पत्थर को पाथर लिखा , पर सम्पादकों ने
पाहन पूजै हरि मिलें ,कर दिया है ,
कई उदाहरण है ,

पर हम यहाँ हिंदी शब्दों के तोड़ फोड़ की बात कर रहे है , एवं खड़ी हिंदी जो हमारी राष्ट्र भाषा है ,उसमें लिखने की बात कर रहे है |
आशा है आप हमारे मनोभावों को समझ गये होगें
🙏🙏🙏

सादर
सुभाष सिंघई ,जतारा (टीकमगढ़) म० प्र०

Language: Hindi
1 Like · 160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“नया मुकाम”
“नया मुकाम”
DrLakshman Jha Parimal
स्कूल जाना है
स्कूल जाना है
SHAMA PARVEEN
मौज में आकर तू देता,
मौज में आकर तू देता,
Satish Srijan
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
Arvind trivedi
*मालिक अपना एक : पॉंच दोहे*
*मालिक अपना एक : पॉंच दोहे*
Ravi Prakash
संभावना
संभावना
Ajay Mishra
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh
प्रारब्ध का सत्य
प्रारब्ध का सत्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🤔🤔🤔समाज 🤔🤔🤔
🤔🤔🤔समाज 🤔🤔🤔
Slok maurya "umang"
माटी तेल कपास की...
माटी तेल कपास की...
डॉ.सीमा अग्रवाल
भारत के जोगी मोदी ने --
भारत के जोगी मोदी ने --
Seema Garg
लोकसभा बसंती चोला,
लोकसभा बसंती चोला,
SPK Sachin Lodhi
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
Pooja Singh
"You’re going to realize it one day—that happiness was never
पूर्वार्थ
5. *संवेदनाएं*
5. *संवेदनाएं*
Dr Shweta sood
अच्छा है कि प्रकृति और जंतुओं में दिमाग़ नहीं है
अच्छा है कि प्रकृति और जंतुओं में दिमाग़ नहीं है
Sonam Puneet Dubey
तन्हायी
तन्हायी
Dipak Kumar "Girja"
* जिन्दगी *
* जिन्दगी *
surenderpal vaidya
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
3241.*पूर्णिका*
3241.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Urmil Suman(श्री)
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
कुछ भी रहता नहीं है
कुछ भी रहता नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
Loading...