Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Aug 2016 · 1 min read

रावण

रावण

हर वर्ष जलाते है हम सैकड़ो रावण के पुतले
क्या जाने कब असली रावण सच में जल पायेगा !!

इंसान ही इंसान में खोज रहा है इंसान को
क्या हम में कोई पुरुषोत्तम राम बन पायेगा !!

सत्य अहिंसा का पाठ हमको अब याद नही
कैसे जीवन में शांतिमय क्षण मिल पायेगा !!

हर घर में रावण बैठा सीता की घात लागए
जाने कब कोई राम बन उसकी लाज बचायेगा !!

क्या होगा पुतले फूंक-फूंक जब तन-मन मैला हो चला
लाख करो रामलीला, क्या सच में रामपथ चल पायेगा !!

पल पल दुनिया बदल रही,वक्त ने है बदली अपनी चाल
लकीर के हम फ़कीर हुए है, जाने कब ये समझ पायेगा !!

धर्म कर्म के नाम पर शैतानो से हम लुटते आये है
दुनिया हम से सीख रही,जाने खुद कब समझ पायेगा !!

जला सको तो जला दिखाओ अपने अंदर बैठे रावण को
अहंकार, ईर्ष्या, द्वेष भाव मिटा दो, प्रेम स्वयं जग जाएगा !!

:::— डी. के. निवातियाँ—:::

Language: Hindi
2 Comments · 601 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
Ankita Patel
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुद्ध जग में पार लगा दो ।
बुद्ध जग में पार लगा दो ।
Buddha Prakash
प्यार का यह सिलसिला चलता रहे।
प्यार का यह सिलसिला चलता रहे।
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-171💐
💐प्रेम कौतुक-171💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
Dr. Man Mohan Krishna
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
Ravi Prakash
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Prakash Chandra
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
J
J
Jay Dewangan
2247.
2247.
Dr.Khedu Bharti
■ आज का आख़िरी शेर-
■ आज का आख़िरी शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
Shakil Alam
मृतशेष
मृतशेष
AJAY AMITABH SUMAN
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
"आत्मावलोकन"
Dr. Kishan tandon kranti
जो भक्त महादेव का,
जो भक्त महादेव का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लहसुन
लहसुन
आकाश महेशपुरी
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
पूर्वार्थ
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
Rituraj shivem verma
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
*अध्यापिका
*अध्यापिका
Naushaba Suriya
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
Paras Nath Jha
Loading...