Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

‘रावण’

रावण बेशुमार जले हैं कल
जलाने वाले क्या राम थे?
नहीं, जब तक राम बनकर
रावण को नहीं मारोगे,
रावण का ही राज रहेगा।
रावण रावण को नहीं मार सकता,
उस रावण को तुम क्या जलाओगे,
जो भक्त बनकर अपना शीष काटकर प्रभु को समर्पित कर देता है। अरे दुनियावालों तुम राम क्या रावण कहलाने योग्य ही बन जाओ! उसे भूत-भविष्य का ज्ञान था । विद्वान, महाज्ञानी, योद्धा, वैद्य, लेखक , काल भी उसके वश में था।एक अवगुण था कि उसे अपने इन गुणों के कारण घोर अहंकार था। उसके अहंकार को दूर करने के लिए ही श्रीराम धरती पर अवतरित हुए। रावण का वध करने के उपरांत प्रभु राम ने तक प्रायश्चित्त किया ।
-गोदाम्बरी नेगी

Language: Hindi
Tag: लेख
350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Godambari Negi
View all
You may also like:
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हिकारत जिल्लत
हिकारत जिल्लत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
सत्य
सत्य
Seema Garg
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
Ashok deep
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
मासी की बेटियां
मासी की बेटियां
Adha Deshwal
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
रिश्तों की कसौटी
रिश्तों की कसौटी
VINOD CHAUHAN
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2948.*पूर्णिका*
2948.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नारी
नारी
Prakash Chandra
*बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद (कुंडलिया)*
*बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
umesh mehra
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
अपने किरदार में
अपने किरदार में
Dr fauzia Naseem shad
कुदरत और भाग्य के रंग..... एक सच
कुदरत और भाग्य के रंग..... एक सच
Neeraj Agarwal
आस्मां से ज़मीं तक मुहब्बत रहे
आस्मां से ज़मीं तक मुहब्बत रहे
Monika Arora
थूंक पॉलिस
थूंक पॉलिस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पर्वत को आसमान छूने के लिए
पर्वत को आसमान छूने के लिए
उमेश बैरवा
#कहानी-
#कहानी-
*प्रणय प्रभात*
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
Manisha Manjari
धानी चूनर
धानी चूनर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" मानस मायूस "
Dr Meenu Poonia
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
हरवंश हृदय
संस्कारों की रिक्तता
संस्कारों की रिक्तता
पूर्वार्थ
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
Loading...