Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

“रावण की पुकार”

#रावण ने भी कर दिया ,जलने से इन्कार।
बोला पहले श्री राम बनो, फिर मुझे लगाओ आग#

गलती मेरी बस इतनी थी,
मैंने सीता का हरण किया।
पर जब भी उनको देखा था,
माता की तरह ही देखा।

एक नारी हरने के खातिर,
मुझे इतनी बड़ी सजा मिली।
सतयुग से लेकर कलयुग तक,
अग्नि ही अग्नि मुझे मिली।

देख घिनौना रूप कलयुग का,
सतयुग का रावण चिल्लाया।
देख के मासूमों की पीड़ा,
रावण को भी रोना आया।।

मेरी एक गलती पर मुझे
हर साल जलाने आते हो
जो हांथ छुए मासूमों को।
क्यों ?उनको जिन्दा नहीं जलाते हो।

पहले अपने अन्दर के ,रावण का,
तुम सब मिलकर दहन करो‌।
फिर राम प्रभू सी मर्यादा ,
पहले तुम सब ग्रहण करो

किसी और के हांथ से जलना,
अब मुझको मंजूर नहीं।
क्योंकि, मुझे जलाने के लिए,
मेरे राम प्रभु ही काफी हैं

स्वरचित रचना
रूबी चेतन शुक्ला
अलीगंज
लखनऊ

Language: Hindi
2 Likes · 185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Even If I Ever Died
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
कोशिशें हमने करके देखी हैं
कोशिशें हमने करके देखी हैं
Dr fauzia Naseem shad
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
Shashi kala vyas
Love
Love
Kanchan Khanna
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
Poonam Matia
वो इश्क़ कहलाता है !
वो इश्क़ कहलाता है !
Akash Yadav
अंतस्थ वेदना
अंतस्थ वेदना
Neelam Sharma
'Here's the tale of Aadhik maas..' (A gold winning poem)
'Here's the tale of Aadhik maas..' (A gold winning poem)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
Er. Sanjay Shrivastava
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
कवि दीपक बवेजा
फूल मोंगरा
फूल मोंगरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कृष्ण सुदामा मित्रता,
कृष्ण सुदामा मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*🌸बाजार *🌸
*🌸बाजार *🌸
Mahima shukla
(1) मैं जिन्दगी हूँ !
(1) मैं जिन्दगी हूँ !
Kishore Nigam
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Tum likhte raho mai padhti rahu
Tum likhte raho mai padhti rahu
Sakshi Tripathi
प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
manjula chauhan
3436⚘ *पूर्णिका* ⚘
3436⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
।। अछूत ।।
।। अछूत ।।
साहित्य गौरव
"जागरण"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
रिश्ते
रिश्ते
Ashwani Kumar Jaiswal
जब लोग आपसे खफा होने
जब लोग आपसे खफा होने
Ranjeet kumar patre
।। लक्ष्य ।।
।। लक्ष्य ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हाइकु .....चाय
हाइकु .....चाय
sushil sarna
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...