Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

रावणदहन

आज राम का रूप धर, रावण के पुतले जलाएंगे,
बारूदों की लड़ियों से, उसके विशालकाय स्वरुप को सजायेंगे।
धनुष की प्रत्यंचा चढ़ा, अग्निमय वाणों से उसके हृदय को छलनी कर जाएंगे,
उसके एक अपराध के लिए, उसकी सारी अच्छाइयों को उसी अग्नि में भस्म कर आएंगे।
जिसने पशुबलि को निषिद्ध किया, उसे हृदयविहीन की संज्ञा दे जाएंगे,
जिसने नवग्रहों का घमंड तोड़ा, उसे अतिगर्वेन कह कर चिढ़ाएँगे।
शिव के उस महाभक्त से छल कर, उसके शिवलिंग की स्थापना का स्थान बदलवायेंगे,
प्रजाप्रेमी उस शासक को, निरंकुशता की पराकाष्ठा बताएँगे।
अपने परिजनों की रक्षा की उसकी प्रतिबद्धता, को उसके अहंकार के रूप में तोल आएंगे,
विजययज्ञ के उस महापंडित रावण के आशीर्वाद, को भी झूठ का आडम्बर बताएँगे।
जिसने जातिरहित रक्ष समाज की रचना की, उसे हीं बुराई का प्रतीक मान आएंगे,
उसकी एक गलती का सहारा ले, उसके सारे कर्मों को घृणित कह कर बुलाएंगे।
पर रावण द्वारा किये गए एकमात्र अपराध को, करने से स्वयं को रोक नहीं पाएंगे,
“होये वही जो राम रची रखा” इस तथ्य को विस्मृत कर, हर साल ये रावण दहन कर मुस्कुरायेंगे।
क्यों ना इस साल विजयादशमी को माँ दुर्गा को जाते-जाते, एक नया प्रण दे जाएंगे,
की अब किसी भी रजक के कहने पर, अग्निपरीक्षा ले माता सीता को वन की राह में नहीं भटकायेंगे।

7 Likes · 8 Comments · 428 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
पुकार!
पुकार!
कविता झा ‘गीत’
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सकारात्मक ऊर्जा से लबरेज
सकारात्मक ऊर्जा से लबरेज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
वोट की राजनीति
वोट की राजनीति
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
राष्ट्र निर्माण के नौ दोहे
राष्ट्र निर्माण के नौ दोहे
Ravi Prakash
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
यह मेरी मजबूरी नहीं है
यह मेरी मजबूरी नहीं है
VINOD CHAUHAN
3298.*पूर्णिका*
3298.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Chahat
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
Chunnu Lal Gupta
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Madhavi Srivastava
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
दिनचर्या
दिनचर्या
Santosh kumar Miri
बुंदेली दोहा-मटिया चूले
बुंदेली दोहा-मटिया चूले
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
यादें
यादें
Dipak Kumar "Girja"
"परीक्षा के भूत "
Yogendra Chaturwedi
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
Suryakant Dwivedi
तेरी पनाह.....!
तेरी पनाह.....!
VEDANTA PATEL
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
Swami Ganganiya
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
कीजै अनदेखा अहम,
कीजै अनदेखा अहम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
gurudeenverma198
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
गर्मी और नानी का घर
गर्मी और नानी का घर
कुमार
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
लोग रिश्ते या शादियों के लिए सेल्फ इंडिपेंडेसी और सेल्फ एक्च
लोग रिश्ते या शादियों के लिए सेल्फ इंडिपेंडेसी और सेल्फ एक्च
पूर्वार्थ
Loading...