Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2024 · 1 min read

राम से बड़ा राम का नाम

राम राम नाम रटते रहो, हो जाता बेड़ा पार
राम से बड़ा होता है कलयुग मे राम का नाम

राम नाम रटते रटते तो पत्थर भी तर जाते हैं।
कर्म, धर्म, मर्यादा का, सार राम से ही पाते हैं।

राम माता पिता के वचनों का मान निभाते हैं।
त्याग, समर्पण करना हमें राम ही सीखलाते है।

चरण रज पाके केवट राम की महिमा सुनाते हैं।
उच नीच व जाती भेद राम राम से मिट जाते है।

राम नाम से हो जायेगा यह भव सागर पार
राम राम नाम रटते रटते, ही होगा बेड़ा पार

प्रेम आस मे बैठी माँ शबरी के झूठे बैर खाते हैं।
वन वासी सुग्रीव को राम गले अपने लगाते हैं।

कोदंड धारण राम विनती सागर से कर जाते हैं।
अँसुना हो जाने पर राम बल अपना दिखलाते है।

शरणार्थी हो जाने पर राम रक्षार्थ वचन निभाते हैं।
प्रताड़ित,अपमानित को सम्मान फिर से दिलाते हैं।

राम नाम रटते रटते तो पत्थर भी तर जाते हैं।
राम नाम रटते रटते सागर में राह बनाते हैं।

राम से बड़ा होता है कलयुग मे राम का नाम
राम नाम से हो जायेगा यह भव सागर पार

लीलाधर चौबिसा (अनिल)
चित्तौड़गढ़ 9829246588

Language: Hindi
107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आज ही का वो दिन था....
आज ही का वो दिन था....
Srishty Bansal
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
2311.
2311.
Dr.Khedu Bharti
प्रेम की कहानी
प्रेम की कहानी
Er. Sanjay Shrivastava
संस्कारों को भूल रहे हैं
संस्कारों को भूल रहे हैं
VINOD CHAUHAN
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
जीवन
जीवन
Monika Verma
तुम से ना हो पायेगा
तुम से ना हो पायेगा
Gaurav Sharma
तितली संग बंधा मन का डोर
तितली संग बंधा मन का डोर
goutam shaw
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
बहुत समय बाद !
बहुत समय बाद !
Ranjana Verma
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
Ram Krishan Rastogi
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
Slok maurya "umang"
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
पूर्वार्थ
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
श्री विध्नेश्वर
श्री विध्नेश्वर
Shashi kala vyas
पत्तों से जाकर कोई पूंछे दर्द बिछड़ने का।
पत्तों से जाकर कोई पूंछे दर्द बिछड़ने का।
Taj Mohammad
बेहतर और बेहतर होते जाए
बेहतर और बेहतर होते जाए
Vaishaligoel
न दिखावा खातिर
न दिखावा खातिर
Satish Srijan
Har subha uthti hai ummid ki kiran
Har subha uthti hai ummid ki kiran
कवि दीपक बवेजा
💐 Prodigy Love-5💐
💐 Prodigy Love-5💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन काशी मन द्वारिका,मन मथुरा मन कुंभ।
मन काशी मन द्वारिका,मन मथुरा मन कुंभ।
विमला महरिया मौज
Destiny
Destiny
Shyam Sundar Subramanian
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
"तोल के बोल"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...