Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 1 min read

*राम-सिया के शुभ विवाह को, सौ-सौ बार प्रणाम है (गीत)*

राम-सिया के शुभ विवाह को, सौ-सौ बार प्रणाम है (गीत)
➖➖➖➖➖➖➖➖➖
राम-सिया के शुभ विवाह को, सौ-सौ बार प्रणाम है
1
मिथिला की मिथिलेशकुमारी, राम अयोध्यावासी
तोड़ा धनुष जनक की कर दी, प्रभु ने दूर उदासी
पुष्पवाटिका का हर्षित हर, सुमन आज अभिराम है
2
साड़ी पहने सिया हृदय में, मंद-मंद मुस्कातीं
अभिलाषित वर मिला, विधाता का आभार जतातीं
धनुष तोड़ कर हुआ राम का, बलवीरों में नाम है
3
जयमाला भावॅंर सिंदूरी, रस्म मधुर लहकौर है
हास और परिहास भरे मधु, संवादों का दौर है
अगहन मास धूलिगो-वेला, मतलब ढलती शाम है
राम-सिया के शुभ विवाह को, सौ-सौ बार प्रणाम है
________________________
लहकौर = वर-वधु एक दूसरे को भोजन का कौर खिलाते हैं। इसे लहकौर की रस्म कहते हैं। रामचरितमानस में इसका वर्णन मिलता है।
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

1498 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
भरत कुमार सोलंकी
*
*"नमामि देवी नर्मदे"*
Shashi kala vyas
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
मुद्दा मंदिर का
मुद्दा मंदिर का
जय लगन कुमार हैप्पी
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
Sushila joshi
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
umesh mehra
Ye din to beet jata hai tumhare bina,
Ye din to beet jata hai tumhare bina,
Sakshi Tripathi
"शाख का पत्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी बंद दरवाजा की तरह है
जिंदगी बंद दरवाजा की तरह है
Harminder Kaur
■ स्वाभाविक बात...
■ स्वाभाविक बात...
*Author प्रणय प्रभात*
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
2499.पूर्णिका
2499.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गीत
गीत
Shiva Awasthi
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
कवि दीपक बवेजा
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
आर.एस. 'प्रीतम'
गांव
गांव
Bodhisatva kastooriya
मृत्यु भय
मृत्यु भय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं तो महज नीर हूँ
मैं तो महज नीर हूँ
VINOD CHAUHAN
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
झरना का संघर्ष
झरना का संघर्ष
Buddha Prakash
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
DrLakshman Jha Parimal
*माला फूलों की मधुर, फूलों का श्रंगार (कुंडलिया)*
*माला फूलों की मधुर, फूलों का श्रंगार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
सत्य कुमार प्रेमी
२९०८/२०२३
२९०८/२०२३
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...