Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2024 · 1 min read

** राम बनऽला में एतना तऽ..**

** राम बनला में एतना तऽ…**
———————————————
माई-बाप के बचनिया लेके ओढ़े के पड़ी
कुछहू कऽह देई केहू,मेहर छोड़े के पड़ी
राम बनऽला में एतना तऽ, करे के पड़ी
——————————————–
छोड़ऽल आपन तीर अपने के मोड़े के पड़ी
आपन जनमऽले से अपने के लड़े के पड़ी
राम बनऽला में एतना तऽ करे के पड़ी —
——————————————–
उनके दुःखवा के सुनि माथा धरे के पड़ी
बिरह अगिया में दिन-रात जरे के पड़ी
राम बनऽला में एतना तऽ करे के पड़ी —
——————————————–
दूनों अंखियन से आँसू ई केतनों गिरी
एगो जियरा के दुई फांट करे के पड़ी
राम बनऽला में एतना तऽ करे के पड़ी —
——————————————–
फूल जईसन ई देंहिया पाथर करे के पड़ी
कुंश कांटा में जिये खातिर मरे के पड़ी
राम बनऽला में एतना तऽ करे के पड़ी —
——————————————–
“चुन्नू”सरजू में समाधि लेके तरे के पड़ी
केहू लांक्षन लगाई, जियते मरे के पड़ी
राम बनऽला में एतना तऽ करे के पड़ी —
कुछहू कऽह ——————————

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता – मऊ (उ.प्र.)
9005592111

359 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
sushil yadav
"जून की शीतलता"
Dr Meenu Poonia
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
कोरोना संक्रमण
कोरोना संक्रमण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मौसम
मौसम
Monika Verma
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
नारी नारायणी
नारी नारायणी
Sandeep Pande
कोशिश करना छोरो मत,
कोशिश करना छोरो मत,
Ranjeet kumar patre
हे वतन तेरे लिए, हे वतन तेरे लिए
हे वतन तेरे लिए, हे वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
3231.*पूर्णिका*
3231.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
........,
........,
शेखर सिंह
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
◆हरे-भरे रहने के लिए ज़रूरी है जड़ से जुड़े रहना।
◆हरे-भरे रहने के लिए ज़रूरी है जड़ से जुड़े रहना।
*प्रणय प्रभात*
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
Subhash Singhai
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
sushil sarna
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
Paras Nath Jha
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
संग रहूँ हरपल सदा,
संग रहूँ हरपल सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*ये दुनिया है यहाँ सुख-दुख, बराबर आ रहे-जाते 【मुक्तक 】*
*ये दुनिया है यहाँ सुख-दुख, बराबर आ रहे-जाते 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"हूक"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...