Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2023 · 1 min read

इमारत बड़ी थी वो

आकाश चूमती थी,
इमारत बड़ी थी वो,
सबके हिस्से की धूप,
रोके खड़ी थी वो।
कोई भी उसके सामने,
टिकता कहाँ कभी,
किस तरह जिंदगी ने,
सर उसका झुका दिया।
ये राम की माया है,
ये राम की मर्ज़ी है,
तिनका उठाकर अर्श पर,
फिर फर्श पर गिरा दिया।
उस राम को इस बात से,
कोई नहीं मतलब,
किस जाति, धर्म, मजहब को,
मानता है तू,
इंसाफ की बारी पर,
कर देंगे वो इन्साफ,
रावण के सारे पुण्य,
पाप उसका खा गया।

(C)@नील पदम्

Language: Hindi
7 Likes · 3 Comments · 1590 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
वो शख्स लौटता नहीं
वो शख्स लौटता नहीं
Surinder blackpen
रोबोटयुगीन मनुष्य
रोबोटयुगीन मनुष्य
SURYA PRAKASH SHARMA
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
सबसे नालायक बेटा
सबसे नालायक बेटा
आकांक्षा राय
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
शहर बसते गए,,,
शहर बसते गए,,,
पूर्वार्थ
"सोचता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
ऑंखों से सीखा हमने
ऑंखों से सीखा हमने
Harminder Kaur
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
क्या कहूँ ?
क्या कहूँ ?
Niharika Verma
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मां वो जो नौ माह कोख में रखती और पालती है।
मां वो जो नौ माह कोख में रखती और पालती है।
शेखर सिंह
*कागज़ कश्ती और बारिश का पानी*
*कागज़ कश्ती और बारिश का पानी*
sudhir kumar
एहसास
एहसास
Kanchan Khanna
*कभी लगता है : तीन शेर*
*कभी लगता है : तीन शेर*
Ravi Prakash
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सपने हो जाएंगे साकार
सपने हो जाएंगे साकार
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
“बप्पा रावल” का इतिहास
“बप्पा रावल” का इतिहास
Ajay Shekhavat
मेरी आंखों में कोई
मेरी आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
Anil Mishra Prahari
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इच्छा और परीक्षा
इच्छा और परीक्षा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
Dr. Man Mohan Krishna
बितियाँ बात सुण लेना
बितियाँ बात सुण लेना
Anil chobisa
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...