Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2024 · 1 min read

*रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*

रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)
_________________________
रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है
1)
त्रेता में इसने सद्गुण की, धर्म ध्वजा फहराई
रहते थे सब लोग पाटकर, ऊॅंच-नीच की खाई
भरे हुए सब अपनेपन से, प्रीति परस्पर करते
कष्ट दिखा जो कहीं किसी का, मिलकर सारे हरते
मंगल करता नाम सदा से, जग में सीताराम है
2)
यह है रामराज्य जिसकी शुभ, नींव भरत ने डाली
चरण-पादुका पूजी कुर्सी, राजा की थी खाली
जहॉं लोभ का अंश न दिखता, रामराज्य कहलाता
रामराज्य वह शासन जिसका, नहीं स्वार्थ से नाता
रामराज्य का अर्थ जहॉं मन, राजा का निष्काम है
3)
रामराज्य का अर्थ जहॉं निज, बोध सनातन पाते
अपनी संस्कृति अपनी भाषा, जहॉं सदा मुस्काते
जहॉं आत्म-अभिमान उपस्थित, रामराज्य रहता है
जहॉं वीरता-भाव हृदय में, उज्ज्वल यश बहता है
जहॉं बसे हनुमान लक्षमण, सौ-सौ बार प्रणाम है
रामराज्य आदर्श हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम है
————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615 451

162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
नारी जीवन
नारी जीवन
Aman Sinha
मर मिटे जो
मर मिटे जो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"डगर"
Dr. Kishan tandon kranti
वो हमें भी तो
वो हमें भी तो
Dr fauzia Naseem shad
माँ जब भी दुआएं देती है
माँ जब भी दुआएं देती है
Bhupendra Rawat
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
Kshma Urmila
*तोता (बाल कविता)*
*तोता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
shabina. Naaz
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
शेखर सिंह
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरे हमदर्द मेरे हमराह, बने हो जब से तुम मेरे
मेरे हमदर्द मेरे हमराह, बने हो जब से तुम मेरे
gurudeenverma198
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
Vishal babu (vishu)
मजदूर हूँ साहेब
मजदूर हूँ साहेब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
VINOD CHAUHAN
उड़ कर बहुत उड़े
उड़ कर बहुत उड़े
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
हर हर महादेव की गूंज है।
हर हर महादेव की गूंज है।
Neeraj Agarwal
दोहे
दोहे
अनिल कुमार निश्छल
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
चमचम चमके चाँदनी, खिली सँवर कर रात।
चमचम चमके चाँदनी, खिली सँवर कर रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
Ravi Betulwala
बेइमान जिंदगी से खुशी झपट लिजिए
बेइमान जिंदगी से खुशी झपट लिजिए
नूरफातिमा खातून नूरी
कोई चाहे कितने भी,
कोई चाहे कितने भी,
नेताम आर सी
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...