Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2023 · 2 min read

*रामपुर दरबार-हॉल में वाद्य यंत्र बजाती महिला की सुंदर मूर्त

रामपुर दरबार-हॉल में वाद्य यंत्र बजाती महिला की सुंदर मूर्ति
🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍃🍃
रामपुर रियासत के प्राचीन राज दरबार-हॉल में जो विशालकाय कुछ मूर्तियॉं हैं, उनमें से एक मूर्ति के हाथ में वाद्य यंत्र ध्यान आकृष्ट करता है। मूर्ति एक महिला की है, जो अपने बाऍं हाथ में एक वाद्य यंत्र लिए हुए हैं तथा दूसरे हाथ से उसे बजाती हुई प्रतीत हो रही है।
वाद्य यंत्र का आकार छोटा है। इसका वजन हल्का ही जान पड़ता है क्योंकि महिला सरलता पूर्वक इसे बाएं हाथ से उठाने में समर्थ है।
वाद्य यंत्र की विशेषता यह है कि इसमें चार तार हैं, जो स्पष्ट दिखाई पड़ रहे हैं। विशेषता यह भी है कि वाद्य यंत्र को बजाने के लिए किसी छड़ी का उपयोग होता हुआ जान नहीं पड़ रहा है। बाएं हाथ में वाद्य यंत्र है और दाहिने हाथ की उंगलियों से उसे बजाया जा रहा है।
महिला वाद्य यंत्र बजाते हुए आकाश की ओर देख रही है। यह एक प्रकार से संगीत में खो जाने की स्थिति होती है। मूर्ति संगीत प्रेम को दर्शाती है। वाद्य यंत्र में जहां बायां हाथ उपकरण को कसकर पड़कर थामने के काम आ रहा है, वहीं दाहिने हाथ की उंगलियां सक्रियता के साथ मुड़ी हुई हैं और वाद्य यंत्र पर काम करती हुई दिखाई दे रही है।
रामपुर का राज दरबार-हॉल रियासत काल में हामिद मंजिल कहलाता था। इसका निर्माण 1905 में तत्कालीन शासक नवाब हामिद अली खॉं के द्वारा किया गया था। वाद्य यंत्र बजा रही महिला की मूर्ति भी संभवत इसी काल की है। इससे रियासत में बीसवीं शताब्दी के प्रथम दशक में संगीत की उपस्थिति सिद्ध हो रही है। हामिद मंजिल की सुंदर इमारत में ही रियासत के विलीनीकरण के पश्चात रामपुर रजा लाइब्रेरी की स्थापना की गई है।
—————————————
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
कवि दीपक बवेजा
घर एक मंदिर🌷🙏
घर एक मंदिर🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रंगों का बस्ता
रंगों का बस्ता
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आब-ओ-हवा
आब-ओ-हवा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
ये 'लोग' हैं!
ये 'लोग' हैं!
Srishty Bansal
कहानी -
कहानी - "सच्चा भक्त"
Dr Tabassum Jahan
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
Suryakant Dwivedi
*धन का नशा रूप का जादू, हुई शाम ढल जाता है (हिंदी गजल)*
*धन का नशा रूप का जादू, हुई शाम ढल जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
Shweta Soni
पापा
पापा
Kanchan Khanna
भाव गणित
भाव गणित
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
" मेरे प्यारे बच्चे "
Dr Meenu Poonia
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
Neelam Sharma
पद्मावती छंद
पद्मावती छंद
Subhash Singhai
फ़र्क
फ़र्क
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आप की असफलता में पहले आ शब्द लगा हुआ है जिसका विस्तृत अर्थ ह
आप की असफलता में पहले आ शब्द लगा हुआ है जिसका विस्तृत अर्थ ह
Rj Anand Prajapati
कैसे कह दें?
कैसे कह दें?
Dr. Kishan tandon kranti
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
Dr MusafiR BaithA
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
Loading...