Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*

रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)
“””””””‘”””'””””””””””‘””””””””””””””””””””””””
(1)
हुई रामपुर की धरा ,भारत- भर की शान
बापू की यादें बनीं, नवयुग की पहचान
नवयुग की पहचान , राख बापू की पाई
बेशकीमती चीज ,रजा खाँ की थी लाई
कहते रवि कविराय,जगे जयहिंद गान सुर
सबसे प्रथम विलीन, रियासत हुई रामपुर
(2)
होते नहीं नवाब तो , आती कैसे राख
सारे भारत में कहो, बनती कैसे साख
बनती कैसे साख, रजा खाँ की अगुवाई
गाँधीजी की याद , रामपुर में आ पाई
कहते रवि कविराय,राजशासक यदि सोते
बापू के अवशेष , रामपुर में क्या होते ?
(3)
भारत धन्य धरा हुई , धन्य रामपुर नाम
एक रियासत में बना , सच्चा बापू धाम
सच्चा बापू धाम , देश भारत जय गाता
यह नवाब की सोच, हवा का रुख बतलाता
कहते रवि कविराय, नहीं यह सिर्फ इमारत
इसका था संदेश , रामपुर समझो भारत
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
रचयिता : रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 999 7615 451

383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
ख़ुद से ख़ुद को
ख़ुद से ख़ुद को
Akash Yadav
सूरज दादा ड्यूटी पर
सूरज दादा ड्यूटी पर
डॉ. शिव लहरी
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
Paras Nath Jha
शेष
शेष
Dr.Priya Soni Khare
हम और तुम
हम और तुम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"खामोशी की गहराईयों में"
Pushpraj Anant
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
नव उल्लास होरी में.....!
नव उल्लास होरी में.....!
Awadhesh Kumar Singh
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
N.ksahu0007@writer
2599.पूर्णिका
2599.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
टैगोर
टैगोर
Aman Kumar Holy
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"लेखक होने के लिए हरामी होना जरूरी शर्त है।"
Dr MusafiR BaithA
खूबसूरत है दुनियां _ आनंद इसका लेना है।
खूबसूरत है दुनियां _ आनंद इसका लेना है।
Rajesh vyas
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
Ritu Asooja
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
Jay Dewangan
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
Phool gufran
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
टूटेगा एतबार
टूटेगा एतबार
Dr fauzia Naseem shad
"लक्षण"
Dr. Kishan tandon kranti
■ कहानी घर घर की....
■ कहानी घर घर की....
*Author प्रणय प्रभात*
*कभी मस्तिष्क से ज्यादा, हृदय से काम लेता हूॅं (हिंदी गजल)*
*कभी मस्तिष्क से ज्यादा, हृदय से काम लेता हूॅं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
धरातल की दशा से मुंह मोड़
धरातल की दशा से मुंह मोड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कठिनाई  को पार करते,
कठिनाई को पार करते,
manisha
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
goutam shaw
Loading...