Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2022 · 1 min read

*रामचंद्र की जय (गीत)*

रामचंद्र की जय (गीत)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रावण मारा सिया छुड़ाई , रामचंद्र की जय
(1)
कथा सुनो यह मर्यादित जीवन जीने वाले की
सौतेली माँ के प्रदत्त विष को पीने वाले की
वन को गए पिता की आज्ञा से हँसकर रघुराई
वन में पापी रावण ने तब उनकी सिया चुराई
लंकापति के वैभव का था, नहीं राम को भय
(2)
अहंकार में डूबा रावण लुटिया आप डुबाई
महावीर हनुमान गए लंका में आग लगाई
रामसेतु को बाँधा प्रभु ने अचरज एक बड़ा था
बूटी संजीवनी लिए पर्वत पूरा उखड़ा था
जीत सत्य की होगी इसमें, क्या कैसा संशय
रावण मारा सिया छुड़ाई , रामचंद्र की जय
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
सबूत ना बचे कुछ
सबूत ना बचे कुछ
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
Akash Yadav
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
वक्त कितना भी बुरा हो,
वक्त कितना भी बुरा हो,
Dr. Man Mohan Krishna
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
पतंग
पतंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
Sometimes goals are not houses, cars, and getting the bag! S
Sometimes goals are not houses, cars, and getting the bag! S
पूर्वार्थ
मकड़जाल से धर्म के,
मकड़जाल से धर्म के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सामाजिक बहिष्कार हो
सामाजिक बहिष्कार हो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
3418⚘ *पूर्णिका* ⚘
3418⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हम तो मर गए होते मगर,
हम तो मर गए होते मगर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
भूली-बिसरी यादें
भूली-बिसरी यादें
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*प्रणय प्रभात*
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
कार्तिक नितिन शर्मा
मुझे ना पसंद है*
मुझे ना पसंद है*
Madhu Shah
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
बेरोजगारी
बेरोजगारी
पंकज कुमार कर्ण
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
मां तुम्हें आता है ,
मां तुम्हें आता है ,
Manju sagar
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
भविष्य के सपने (लघुकथा)
भविष्य के सपने (लघुकथा)
Indu Singh
Hajipur
Hajipur
Hajipur
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
Loading...