Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

राधे राधे happy Holi

फूल है कृष्णा रंग है राधे,
नाम भिन्न पर संग है राधे।
पवित्र हृदय के पवित्र भाव में,
प्रेम की पावन उमंग है राधे।

गोपियों के सुर प्रेमराग पर,
बंसी की मधुर तरंग है राधे।
यमुना तट गूंज रही जो,
आनंद अनंत मृदंग है राधे।

माधव भीतर जो प्राण बसे है,
सुंदर काया हर अंग है राधे।
मछली जैसे बिन पानी के
बिन केशव के बेरंग है राधे।
@साहित्य गौरव

Language: Hindi
Tag: Holi Quote
2 Likes · 1 Comment · 411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खूब रोता मन
खूब रोता मन
Dr. Sunita Singh
मेरे हिस्से सब कम आता है
मेरे हिस्से सब कम आता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं बूढ़ा नहीं
मैं बूढ़ा नहीं
Dr. Rajeev Jain
शिखर के शीर्ष पर
शिखर के शीर्ष पर
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
बींसवीं गाँठ
बींसवीं गाँठ
Shashi Dhar Kumar
मुस्कुराना चाहता हूं।
मुस्कुराना चाहता हूं।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
3083.*पूर्णिका*
3083.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ज्ञान का अर्थ
ज्ञान का अर्थ
ओंकार मिश्र
खुदा सा लगता है।
खुदा सा लगता है।
Taj Mohammad
" तुम खुशियाँ खरीद लेना "
Aarti sirsat
मुखौटे
मुखौटे
Shaily
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
"भावुकता का तड़का।
*प्रणय प्रभात*
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बलबीर
बलबीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
यह मेरी इच्छा है
यह मेरी इच्छा है
gurudeenverma198
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
sushil sarna
में बेरोजगारी पर स्वार
में बेरोजगारी पर स्वार
भरत कुमार सोलंकी
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
ममतामयी मां
ममतामयी मां
Santosh kumar Miri
अमर्यादा
अमर्यादा
साहिल
प्रिय विरह - २
प्रिय विरह - २
लक्ष्मी सिंह
कैसे कहे
कैसे कहे
Dr. Mahesh Kumawat
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
221/2121/1221/212
221/2121/1221/212
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...