Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 26, 2016 · 1 min read

राधा श्याम

हमारे साथ में अब तुम गगन के पार आ जाओ
तुम्हारे द्वार हम आयें हमारे द्वार आ जाओ
सकल ब्रह्मांड में जीता मगर राधा से हारा है
तुम्हारा श्याम कहता है हमारी हार आ जाओ

266 Views
You may also like:
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
पिता
Meenakshi Nagar
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
पिता
Manisha Manjari
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...