Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

रात के अंधेरों से सीखा हूं मैं ।

रात के अंधेरों से सीखा हूं मैं ।
उजालों से डरने वाला नहीं हूं
और हो जो ना मुकम्मल इस जहां के लिए मैं करने वाला वही हूं।।
★IPS KAMAL THAKUR ★

1 Like · 442 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
...........
...........
शेखर सिंह
॥ जीवन यात्रा मे आप किस गति से चल रहे है इसका अपना  महत्व  ह
॥ जीवन यात्रा मे आप किस गति से चल रहे है इसका अपना महत्व ह
Satya Prakash Sharma
कभी भी व्यस्तता कहकर ,
कभी भी व्यस्तता कहकर ,
DrLakshman Jha Parimal
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
Chandra Kanta Shaw
बरसात
बरसात
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सफल
सफल
Paras Nath Jha
3270.*पूर्णिका*
3270.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"पता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
Keshav kishor Kumar
इंसानियत
इंसानियत
Sunil Maheshwari
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
*सियासत हो गई अब सिर्फ, कारोबार की बातें (हिंदी गजल/गीतिका)*
*सियासत हो गई अब सिर्फ, कारोबार की बातें (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूर्वार्थ
विकल्प
विकल्प
Dr.Priya Soni Khare
हौसला देने वाले अशआर
हौसला देने वाले अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मासूमियत
मासूमियत
Punam Pande
मूक संवेदना🙏
मूक संवेदना🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ केवल लूट की मंशा।
■ केवल लूट की मंशा।
*प्रणय प्रभात*
इश्क का कमाल है, दिल बेहाल है,
इश्क का कमाल है, दिल बेहाल है,
Rituraj shivem verma
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मईया के आने कि आहट
मईया के आने कि आहट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...