Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2017 · 1 min read

राज

किसी के गीत को दर्द ना समझो उसे राग ही रहने दो,
बंद आँखों में है जो उसे लाज ही रहने दो,
खुल गई अगर जुबान हमारी तो कयामत होगी ,
ये राज है इसे राज ही रहने दो !!

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Comment · 878 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
*विश्व योग दिवस : 21 जून (मुक्तक)*
*विश्व योग दिवस : 21 जून (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मुदा एहि
मुदा एहि "डिजिटल मित्रक सैन्य संगठन" मे दीप ल क' ताकब तथापि
DrLakshman Jha Parimal
जन्माष्टमी महोत्सव
जन्माष्टमी महोत्सव
Neeraj Agarwal
"सड़क"
Dr. Kishan tandon kranti
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
* ये शिक्षक *
* ये शिक्षक *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
रखो वक्त निकाल कर  नजदीकिया और  निभा लो अपनापन जो भी रिश्ते
रखो वक्त निकाल कर नजदीकिया और निभा लो अपनापन जो भी रिश्ते
पूर्वार्थ
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
Phool gufran
राज्यतिलक तैयारी
राज्यतिलक तैयारी
Neeraj Mishra " नीर "
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
मैं हूं ना
मैं हूं ना
Sunil Maheshwari
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
ग्रीष्म ऋतु --
ग्रीष्म ऋतु --
Seema Garg
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
*प्रणय प्रभात*
*बदलता_है_समय_एहसास_और_नजरिया*
*बदलता_है_समय_एहसास_और_नजरिया*
sudhir kumar
राष्ट्र-मंदिर के पुजारी
राष्ट्र-मंदिर के पुजारी
नवीन जोशी 'नवल'
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
Madhuyanka Raj
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे  शुभ दिन है आज।
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे शुभ दिन है आज।
Anil chobisa
पुष्प
पुष्प
Dinesh Kumar Gangwar
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
3497.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3497.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
Ravi Yadav
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
अभिषेक किसनराव रेठे
मेरी मोहब्बत का चाँद
मेरी मोहब्बत का चाँद
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...