Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2022 · 1 min read

राज

दिल में रख कर क्या होगा
ज़ज़्बात जुबां पर आने दो ,
दिल में उल्फ़त के शोलों को
नग्मों में जरा ढल जाने दो ,
शोर मचाती शोख़ हवा को
थोड़ा खुद तो इतराने दो ,
मस्ती में डूबी कलियों को
अपनी खुश्बू बिखराने दो ,
न जाने कल फिर क्या होगा
ये राज बड़ा गहरा होगा ,

Language: Hindi
1 Like · 262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पागल तो मैं ही हूँ
पागल तो मैं ही हूँ
gurudeenverma198
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
शांति चाहिये...? पर वो
शांति चाहिये...? पर वो "READY MADE" नहीं मिलती "बनानी" पड़ती
पूर्वार्थ
दो दोहे
दो दोहे
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
चलो चाय पर करने चर्चा।
चलो चाय पर करने चर्चा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"नश्वर"
Dr. Kishan tandon kranti
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
सीख
सीख
Ashwani Kumar Jaiswal
करवा चौथ@)
करवा चौथ@)
Vindhya Prakash Mishra
तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं
तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं
Manisha Manjari
“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)
“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)
DrLakshman Jha Parimal
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अंगदान
अंगदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संक्रांति
संक्रांति
Harish Chandra Pande
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
3549.💐 *पूर्णिका* 💐
3549.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
सत्य दृष्टि (कविता)
सत्य दृष्टि (कविता)
Dr. Narendra Valmiki
गंगा सेवा के दस दिवस (द्वितीय दिवस)
गंगा सेवा के दस दिवस (द्वितीय दिवस)
Kaushal Kishor Bhatt
दीया और बाती
दीया और बाती
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
तन्हाई में अपनी
तन्हाई में अपनी
हिमांशु Kulshrestha
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
"बेल की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बुंदेली दोहा-गर्राट
बुंदेली दोहा-गर्राट
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*बोलो चुकता हो सका , माँ के ऋण से कौन (कुंडलिया)*
*बोलो चुकता हो सका , माँ के ऋण से कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी की ज़रूरत में
ज़िंदगी की ज़रूरत में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...