Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज

सम्प्रीति भोज्यानि आपदा भोज्यानि वा पुनैः’’
अर्थात्
“जब खिलाने वाले का मन प्रसन्न हो,
खाने वाले का मन प्रसन्न हो,
तभी भोजन करना चाहिए।”

अन्धे राह चलते हैं, बेहरे राग संजाते है।
भेड़ चाल सोचकर, सब चलते जाते हैं।
पूर्वजों के रीति रिवाजों को आँख दिखाते हैं।
अपने हाथों अपने पाव कुल्हाड़ी चलाते हैं।

भोजन जैसी व्यवस्था पर भी अंकुश लगाते हैं।
मन के भरे मेल से तर्क अपने अपने लगाते हैं।
क्या जन्म, प्रण, मरण को रोक कोई पाया है?
फिर कैसे भोजन को मृत्यु भोज बताया है।

भोजन व्यवस्था को व्यर्थ प्रलाप बताते हों।
कुरीतियों का ज्ञान हमें अपना संजाते हों।
समाज को नये युग का आईना दिखाते हों।
विवाह मे लाखों करोड़ो के खर्चे उठाते हों।

पूर्वजों के रिवाजो को तुम समझ नहीं पायें हों।
केवल हर और फालतू हल्ला मचाते आये हों।
मृत्यु भोज नहीं यहाँ राज्य तिलक करवाते हैं।
अपने पूर्वजसंपत्ति का राजा तुम को बनाते हैं।

अपने समाज में एक नई पहचान दिलाते हैं।
परिजन संग परिवार के सब मिलने आते हैं।
आशीष देकर सामाजिक सम्मान दिलाते हैं।
हम भी राज्य अभिषेक मे भोजन करवाते हैं।

बुजर्गो की मिली सम्पति का कुछ दान करते हैं।
अपने परिवार, समाज में धर्मदान भिजवाते है।
हम गाव, रिश्तें, दारों के लिए भोजन बनवाते है।
सब को खुशी खुशी पकवानों से भोग लगवाते है।

लीलाधर चौबिसा (अनिल)
चित्तौड़गढ़ 9829246588

Language: Hindi
252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
काली मां
काली मां
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
अन्तिम स्वीकार ....
अन्तिम स्वीकार ....
sushil sarna
रोना भी जरूरी है
रोना भी जरूरी है
Surinder blackpen
एक मुक्तक
एक मुक्तक
सतीश तिवारी 'सरस'
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
पूर्वार्थ
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
जय लगन कुमार हैप्पी
देश भक्ति का ढोंग
देश भक्ति का ढोंग
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
जिसकी शाख़ों पर रहे पत्ते नहीं..
जिसकी शाख़ों पर रहे पत्ते नहीं..
Shweta Soni
कृतिकार का परिचय/
कृतिकार का परिचय/"पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
*तुम अगर साथ होते*
*तुम अगर साथ होते*
Shashi kala vyas
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
Shubham Pandey (S P)
सत्य शुरू से अंत तक
सत्य शुरू से अंत तक
विजय कुमार अग्रवाल
2621.पूर्णिका
2621.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🙅आज का मैच🙅
🙅आज का मैच🙅
*Author प्रणय प्रभात*
"रंगमंच पर"
Dr. Kishan tandon kranti
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
आर.एस. 'प्रीतम'
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
शेखर सिंह
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
युद्ध के मायने
युद्ध के मायने
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जाने वाले का शुक्रिया, आने वाले को सलाम।
जाने वाले का शुक्रिया, आने वाले को सलाम।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...