Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2023 · 1 min read

राजस्थान में का बा

ओपीएस फिर से जहाँ, बहाल हुई बा।
मुफ्त दवाइयां जहाँ, शुरू हुई बा।।
ऐसा जिस राज्य में, पहले हुआ बा।
राजस्थान में का बा/राजस्थान में का बा//
ओपीएस फिर से——————-।।

एडवांस पेमेंट ले सकत बा कर्मचारी।
मुफ्त इलाज, करा सकत बा कर्मचारी।।
पच्चीस में पूरी, जहाँ पेंशन हुई बा।
राजस्थान में का बा/राजस्थान में का बा//
ओपीएस फिर से———————।।

बारहवीं कक्षा तक,शिक्षा निःशुल्क हुई बा।
आठवीं कक्षा तक, पोशाक निःशुल्क हुई बा।।
गाँवों में अंग्रेजी स्कूल, जहाँ खुले बा।
राजस्थान में का बा/राजस्थान में का बा//
ओपीएस फिर से———————।।

साम्प्रदायिक सौहार्द की मिसाल,जहाँ बा।
अमन- भाईचारे की इबादत, जहाँ बा।।
वीरों- वीरांगनाओं की, धरती जो बा।
राजस्थान में का बा/राजस्थान में का बा//

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी कलम
मेरी कलम
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुदामा जी
सुदामा जी
Vijay Nagar
*पिता (दोहा गीतिका)*
*पिता (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
जबसे उनको रकीब माना है।
जबसे उनको रकीब माना है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
Neelam Sharma
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
Rj Anand Prajapati
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Pratibha Pandey
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYA PRAKASH SHARMA
प्रीति
प्रीति
Mahesh Tiwari 'Ayan'
बंद लिफाफों में न करो कैद जिन्दगी को
बंद लिफाफों में न करो कैद जिन्दगी को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
काले समय का सवेरा ।
काले समय का सवेरा ।
Nishant prakhar
"तफ्तीश"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं शामिल तुझमें ना सही
मैं शामिल तुझमें ना सही
Madhuyanka Raj
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
सत्य कुमार प्रेमी
क्या क्या बदले
क्या क्या बदले
Rekha Drolia
संविधान
संविधान
लक्ष्मी सिंह
...........
...........
शेखर सिंह
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
23/208. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/208. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
Aman Kumar Holy
" महखना "
Pushpraj Anant
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
Chhod aye hum wo galiya,
Chhod aye hum wo galiya,
Sakshi Tripathi
सूखी टहनियों को सजा कर
सूखी टहनियों को सजा कर
Harminder Kaur
हो जाऊं तेरी!
हो जाऊं तेरी!
Farzana Ismail
पिता
पिता
Dr Manju Saini
रज चरण की ही बहुत है राजयोगी मत बनाओ।
रज चरण की ही बहुत है राजयोगी मत बनाओ।
*Author प्रणय प्रभात*
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...