Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2016 · 1 min read

राजयोग महागीता:: धर्म और अधर्म,सुख-दुख सब ही तो

घनाक्षरी:: अध्याय१ गुरुक्तानुभव::छंद – ६:: पोस्ट ११

धर्म और अधर्म, सुख – दुख सब ही तो ये
मानस की उपज हैं कदापि तू न कर्ता ।
तू देह से असंग यदि मान ले स्वयं को तो –
जान लेगा अपने को , कदापि है न भोक्ता ।
सर्वदा असंग है तू सर्वदा ही मुक्त है तो —
जान लेगा अपनी भी क्या है उपयोगिता ।
जब जान लेगा स्वयं को आत्मा परमतत्व ,
निज को पायेगा मुक्त , जान लेगा योग्यता ।।६/ अ १!!
—- जितेंद्र कमल आनंद

Language: Hindi
Tag: कविता
140 Views
You may also like:
तुम रहने दो -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
“ कुछ दिन शरणार्थियों के साथ ”
DrLakshman Jha Parimal
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दरिया
Anamika Singh
बॉलीवुड का अंधा गोरी प्रेम और भारतीय समाज पर इसके...
Harinarayan Tanha
मध्यप्रदेश पर कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शायरी हिंदी
श्याम सिंह बिष्ट
सत्य सनातन पंथ चलें सब, आशाओं के दीप जलें।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता
विजय कुमार 'विजय'
Advice
Shyam Sundar Subramanian
तुम्हारे रुख़सार यूँ दमकते
Anis Shah
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को
सत्य कुमार प्रेमी
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
नवगीत -
Mahendra Narayan
मज़ाक।
Taj Mohammad
✍️कुछ हंगामा करना पड़ता है✍️
'अशांत' शेखर
भीगे अरमाँ भीगी पलकें
VINOD KUMAR CHAUHAN
छुअन लम्हे भर की
Rashmi Sanjay
कभी न करना उससे, उसकी नेमतों का गिला ।
Dr fauzia Naseem shad
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फ्रस्ट्रेटेड जीनियस
Shekhar Chandra Mitra
टोक्यो ओलंपिक 2021
Rakesh Bahanwal
अख़बार
आकाश महेशपुरी
*मुर्गे का चढ़ावा( अतुकांत कविता)*
Ravi Prakash
मैं निर्भया हूं
विशाल शुक्ल
प्यार तुम मीत मेरे हो
Buddha Prakash
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
काश उसने तुझे चिड़ियों जैसा पाला होता।
Manisha Manjari
Loading...