Oct 14, 2016 · 1 min read

राजयोग महागीता:: धर्म और अधर्म,सुख-दुख सब ही तो

घनाक्षरी:: अध्याय१ गुरुक्तानुभव::छंद – ६:: पोस्ट ११

धर्म और अधर्म, सुख – दुख सब ही तो ये
मानस की उपज हैं कदापि तू न कर्ता ।
तू देह से असंग यदि मान ले स्वयं को तो –
जान लेगा अपने को , कदापि है न भोक्ता ।
सर्वदा असंग है तू सर्वदा ही मुक्त है तो —
जान लेगा अपनी भी क्या है उपयोगिता ।
जब जान लेगा स्वयं को आत्मा परमतत्व ,
निज को पायेगा मुक्त , जान लेगा योग्यता ।।६/ अ १!!
—- जितेंद्र कमल आनंद

88 Views
You may also like:
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐प्रेम की राह पर-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
जगत के स्वामी
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पिता
कुमार अविनाश केसर
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरा बचपन
Ankita Patel
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
Loading...