Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2016 · 1 min read

राजयोगमहगीता: गोविंद भी नाम जिनका है गोवर्धनधारी: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट५४)घनाक्षरी

घनाक्षरी : प्रभु प्रणाम ३
————,गोविंद भी नाम जिनका है गोवर्धनधारी ,
नित्यरूप, नित्यगुण, नित्य- लीलाधाम हैं ।
सभीके हैं मूल उत्स , परम आनंद हैं जो ,
कारणों के कारण हैं वे मूल शोभा- धाम हैं ।
कृष्ण नाम द्योतक जो प्रेम आकर्षण नित्य,
परम सत्ता का वह ब्रह्म दिव्य नाम हैं ।
सर्वशक्तिमान , सर्वव्यापक , सर्वज्ञ हैं जो–
करते उन्हीं को हम नित्य प्रणाम हैं ।।३।।

—– जितेंद्र कमल आनंद,
रामपुर ( उत्तर प्रदेश) , भारत

Language: Hindi
446 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लिखते दिल के दर्द को
लिखते दिल के दर्द को
पूर्वार्थ
शिव आराधना
शिव आराधना
Kumud Srivastava
"चापलूसी"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसे आये हिज्र में, दिल को भला करार ।
कैसे आये हिज्र में, दिल को भला करार ।
sushil sarna
काश ! लोग यह समझ पाते कि रिश्ते मनःस्थिति के ख्याल रखने हेतु
काश ! लोग यह समझ पाते कि रिश्ते मनःस्थिति के ख्याल रखने हेतु
मिथलेश सिंह"मिलिंद"
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
" हवाएं तेज़ चलीं , और घर गिरा के थमी ,
Neelofar Khan
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
*देश के  नेता खूठ  बोलते  फिर क्यों अपने लगते हैँ*
*देश के नेता खूठ बोलते फिर क्यों अपने लगते हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शोर बहुत करती हैं,
शोर बहुत करती हैं,
Shwet Kumar Sinha
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
मुस्कान
मुस्कान
Santosh Shrivastava
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
Govind Kumar Pandey
3514.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3514.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
खुशी के पल
खुशी के पल
RAKESH RAKESH
■ खरी-खरी...
■ खरी-खरी...
*प्रणय प्रभात*
రామయ్య రామయ్య
రామయ్య రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मैं तो महज इतिहास हूँ
मैं तो महज इतिहास हूँ
VINOD CHAUHAN
सूरज - चंदा
सूरज - चंदा
Prakash Chandra
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
दूरी जरूरी
दूरी जरूरी
Sanjay ' शून्य'
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अपना भी एक घर होता,
अपना भी एक घर होता,
Shweta Soni
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA
तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पिता का प्यार
पिता का प्यार
Befikr Lafz
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
Ravi Prakash
Loading...