Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 2 min read

राजनीति

राजनीति
“पापा, देखिये आपकी पार्टी के वरिष्ठ मंत्री जी बागी उम्मीदवार को मिठाई खिलाकर उनका मुँह मीठा कर रहे हैं।” मंत्री जी के किशोर बेटे ने लोकल न्यूज चैनल देखते हुए कहा।
“हाँ, तो इसमें नई बात क्या है ?” मंत्री जी ने पूछा।
“पापा, आपको याद होगा इसी न्यूज चैनल पर एक डिबेट में मतगणना के पहले आज सुबह आपकी पार्टी के अध्यक्ष ने कहा था कि बागी उम्मीदवारों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाएगी। उन्हें आवश्यकतानुसार निष्कासित भी कर सकते हैं। और अब ये देखिए, पार्टी के वरिष्ठ मंत्री बागी उम्मीदवार के कंधे पर हाथ रखकर चल रहे हैं।” किशोर चकित था।
नेताजी ने समझाया, “बेटा, यही तो राजनीति है। यहाँ कोई भी संबंध स्थाई नहीं होता। जरूरत पड़ने पर शेर और हिरण एक ही घाट पर पानी पीते हैं। यहाँ सब कुछ देश, काल, परिस्थिति पर निर्भर करता है।”
“मतलब…” बेटे ने बाप की ओर आश्चर्य से देखते हुए पूछा।
“मतलब ये कि सुबह मतगणना के पहले तक हमारे माननीय अध्यक्ष महोदय आश्वस्त थे कि हमारी पार्टी पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाएगी। अब परिणाम जारी होने के बाद तुम देख ही रहे हो मामला फँस गया है। दोनों प्रमुख पार्टियों के बीच काँटे की टक्कर है। ऐसे में सरकार बनाने के लिए इन जीते हुए बागी उम्मीदवारों के समर्थन के लिए ऐसा करना समय की माँग है। वैसे बड़े सयाने कह के गए हैं, सुबह का भूला शाम को घर लौट आए, तो उसे भूला नहीं कहते हैं।” नेताजी ने बेटे की जिज्ञासा शांत कर दी थी।
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
' मौन इक सँवाद '
' मौन इक सँवाद '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
goutam shaw
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
शेखर सिंह
किंकर्तव्यविमूढ़
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
My life's situation
My life's situation
Sukoon
*सीता (कुंडलिया)*
*सीता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
लक्ष्मी सिंह
3495.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3495.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
दिल की पुकार है _
दिल की पुकार है _
Rajesh vyas
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
क्षणिकाए - व्यंग्य
क्षणिकाए - व्यंग्य
Sandeep Pande
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
कार्तिक नितिन शर्मा
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
आखिर कब तक?
आखिर कब तक?
Pratibha Pandey
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
याद - दीपक नीलपदम्
याद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भोले शंकर ।
भोले शंकर ।
Anil Mishra Prahari
तितली
तितली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुबह की चाय मिलाती हैं
सुबह की चाय मिलाती हैं
Neeraj Agarwal
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"अवध के राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
Dead 🌹
Dead 🌹
Sampada
Loading...