Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

राजनीति के क़ायदे,

राजनीति के क़ायदे,
समझ न आयें खेल
खड़े हुये हैं भीड़ में,
मिले न राशन तेल महावीर उत्तरांचली

1 Like · 240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
"विचारणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
*मन राह निहारे हारा*
*मन राह निहारे हारा*
Poonam Matia
3120.*पूर्णिका*
3120.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
pravin sharma
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
Er. Sanjay Shrivastava
राजनीति के क़ायदे,
राजनीति के क़ायदे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एहसास
एहसास
Kanchan Khanna
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
डॉक्टर रागिनी
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
Buddha Prakash
एक रावण है अशिक्षा का
एक रावण है अशिक्षा का
Seema Verma
शिक्षक है आदर्श हमारा
शिक्षक है आदर्श हमारा
Harminder Kaur
We host the flag of HINDI FESTIVAL but send our kids to an E
We host the flag of HINDI FESTIVAL but send our kids to an E
DrLakshman Jha Parimal
नमस्कार मित्रो !
नमस्कार मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
💐प्रेम कौतुक-542💐
💐प्रेम कौतुक-542💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*बलशाली हनुमान (कुंडलिया)*
*बलशाली हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"नॉनसेंस" का
*Author प्रणय प्रभात*
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
तुम्हीं  से  मेरी   जिंदगानी  रहेगी।
तुम्हीं से मेरी जिंदगानी रहेगी।
Rituraj shivem verma
Loading...