Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2023 · 1 min read

राजकुमारी कार्विका

इतिहासों के पन्नों पर लगी धूल हटाता हुँ।
चूड़ी व पायल की छम छम नहीं सुनता हूँ।
विश्व विजेता भी डर कर युद्ध से भागता है।
कार्विका की चंडी सेना की गाथा सुनता हूँ।

भारत में जब युद्ध का घना अँधेरा छाया था।
सिकंदर की सेना ने आतंक बहुत मचाया था।
नारियों के साथ दुष्कर्म व राज्य लूटते आये थे।
तब विदुषी नारियों ने युद्ध करने का ठाना था।

मेहंदी के हाथों से लहू सनी तलवार उठाई है।
लगा की कोई टिड्डी दल बाजों से टकराया है।
लाखों की सेना कुछ हजार नारी शक्ति टकराई
राजकुमारी ने बचपन की सहेलियों के साथ सेना बनाई है।

सिकंदर ने पहले सोचा “सिर्फ नारी की फ़ौज है
मुट्ठीभर सैनिक काफी होंगे पहले सेना का दस्ता भेजा है (25000)
सिकंदर का एक भी सैनिक ज़िन्दा वापस नहीं जा पाया है
घायल हुई वीरांगनाएँ पर मृत्यु किसी को छुना पायी थी। (मात्र 50)

फिर सिकंदर ने 5०,००० का दूसरा दस्ता भेजा था।
उत्तर पूरब पश्चिम तीनों और से घेराबन्दी बनाया था।
युद्धनीति से राजकुमारी कार्विका ने खुद सैन्यसंचालन किया
सेना तीन भागो में बंट कर सिकंदर की सेना को परास्त किया था।

तीसरी और अंतिम दस्ताँ का मोर्चा लिए खुद सिकंदर आया था।
नंगी तलवारों से कार्विका ने अपनी सेना का शौर्य दिखाया था।
150 लाख से मात्र 25 हजार की सेना ही जान बचा पायी थी।
सिकंदर को अपनी सेना सहित लेकर सिंध के पार भगाया था।

लीलाधर चौबिसा (अनिल)
चित्तौड़गढ़ 9829246588

Language: Hindi
136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
Kanchan Khanna
सावन
सावन
Madhavi Srivastava
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
लहसुन
लहसुन
आकाश महेशपुरी
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
DrLakshman Jha Parimal
यादें...
यादें...
Harminder Kaur
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Sakshi Tripathi
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
Manisha Manjari
🙅परम ज्ञान🙅
🙅परम ज्ञान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
चर्बी लगे कारतूसों के कारण नहीं हुई 1857 की क्रान्ति
चर्बी लगे कारतूसों के कारण नहीं हुई 1857 की क्रान्ति
कवि रमेशराज
रक्त संबंध
रक्त संबंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उम्र के इस पडाव
उम्र के इस पडाव
Bodhisatva kastooriya
"नमक का खारापन"
Dr. Kishan tandon kranti
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
Arvind trivedi
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
The_dk_poetry
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
Ravi Prakash
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
शिव प्रताप लोधी
Yash Mehra
Yash Mehra
Yash mehra
देश के संविधान का भी
देश के संविधान का भी
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-458💐
💐प्रेम कौतुक-458💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीभ/जिह्वा
जीभ/जिह्वा
लक्ष्मी सिंह
मन में क्यों भरा रहे घमंड
मन में क्यों भरा रहे घमंड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
gurudeenverma198
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
Paras Nath Jha
2601.पूर्णिका
2601.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पूर्ण-अपूर्ण
पूर्ण-अपूर्ण
Srishty Bansal
#आज_का_दोहा
#आज_का_दोहा
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...