Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 24, 2016 · 1 min read

राग अधरों पर सजाना आ गया

राग अधरों पर सजाना आ गया
लो मुझे भी गीत गाना आ गया

छटपटाहट आज मन की भूल कर
दर्द में भी मुस्कुराना आ गया

नेह की इक बूँद को गिरते हुये
सीप के मुँह में समाना आ गया

आँसुओं को भी पलक के छोर पर
मोतियों सा जगमगाना आ गया

बादलों को प्यार की बरसात कर
प्यास चातक की बुझाना आ गया

हर तरफ विद्वेष की चिंगारियां
देखिये तो क्या ज़माना आ गया

अब न पतझर का कोई डर है हमें
अब हमें गुलशन सजाना आ गया

राकेश दुबे “गुलशन”
24/07/2016
बरेली

1 Comment · 122 Views
You may also like:
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
दर्दे दिल
अनामिका सिंह
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
💐खामोश जुबां 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️हार और जित✍️
"अशांत" शेखर
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
ये जिन्दगी एक तराना है।
Taj Mohammad
शबनम।
Taj Mohammad
✍️अपने शामिल कितने..!✍️
"अशांत" शेखर
दिया
अनामिका सिंह
भारतीय युवा
AMRESH KUMAR VERMA
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
अनामिका सिंह
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपना राह तुम खुद बनाओ
अनामिका सिंह
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
जग
AMRESH KUMAR VERMA
कामयाबी
डी. के. निवातिया
फ़नकार समझते हैं Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
हमको पास बुलाती है।
Taj Mohammad
Loading...