Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2016 · 1 min read

राग अधरों पर सजाना आ गया

राग अधरों पर सजाना आ गया
लो मुझे भी गीत गाना आ गया

छटपटाहट आज मन की भूल कर
दर्द में भी मुस्कुराना आ गया

नेह की इक बूँद को गिरते हुये
सीप के मुँह में समाना आ गया

आँसुओं को भी पलक के छोर पर
मोतियों सा जगमगाना आ गया

बादलों को प्यार की बरसात कर
प्यास चातक की बुझाना आ गया

हर तरफ विद्वेष की चिंगारियां
देखिये तो क्या ज़माना आ गया

अब न पतझर का कोई डर है हमें
अब हमें गुलशन सजाना आ गया

राकेश दुबे “गुलशन”
24/07/2016
बरेली

1 Comment · 190 Views
You may also like:
दिल और दिमाग़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हाइकु: नवरात्रि पर्व!
Prabhudayal Raniwal
अस्फुट सजलता
Rashmi Sanjay
प्राणदायी श्वास हो तुम।
Neelam Sharma
पवित्र
rkchaudhary2012
चराग बुझते ही.....
Vijay kumar Pandey
पत्थर दिल
Seema 'Tu hai na'
दिया जलता छोड़ दिया
कवि दीपक बवेजा
Aksharjeet shayari..अपनी गलतीयों से बहुत कूछ सिखा हैं मैने ...
AK Your Quote Shayari
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मैं कैसे
Ram Krishan Rastogi
ऐ! दर्द
Satish Srijan
साधुवाद और धन्यवाद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️हैरत है मुझे✍️
'अशांत' शेखर
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
आस्तीन के साँप
Dr Archana Gupta
जिंदगी तुमसे जीना सीखा
Abhishek Pandey Abhi
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
परिचय
Pakhi Jain
"शिक्षक तो बोलेगा"
पंकज कुमार कर्ण
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
रफ्तार
Anamika Singh
मैं तुझको इश्क कर रहा हूं।
Taj Mohammad
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
⭐⭐सादगी बहुत अच्छी लगी तुम्हारी⭐⭐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
ख़ुद ही हालात समझने की नज़र देता है,
Aditya Shivpuri
*करो वोट से चोट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैथिली हाइकु कविता (Maithili Haiku Kavita)
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
जीवन की सोच/JIVAN Ki SOCH
Shivraj Anand
भगतसिंह की देन
Shekhar Chandra Mitra
Loading...