Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2016 · 1 min read

राग अधरों पर सजाना आ गया

राग अधरों पर सजाना आ गया
लो मुझे भी गीत गाना आ गया

छटपटाहट आज मन की भूल कर
दर्द में भी मुस्कुराना आ गया

नेह की इक बूँद को गिरते हुये
सीप के मुँह में समाना आ गया

आँसुओं को भी पलक के छोर पर
मोतियों सा जगमगाना आ गया

बादलों को प्यार की बरसात कर
प्यास चातक की बुझाना आ गया

हर तरफ विद्वेष की चिंगारियां
देखिये तो क्या ज़माना आ गया

अब न पतझर का कोई डर है हमें
अब हमें गुलशन सजाना आ गया

राकेश दुबे “गुलशन”
24/07/2016
बरेली

1 Comment · 252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rakesh Dubey "Gulshan"
View all
You may also like:
आसान नहीं होता
आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
अपने क़द से
अपने क़द से
Dr fauzia Naseem shad
भारत का सर्वोच्च न्यायालय
भारत का सर्वोच्च न्यायालय
Shekhar Chandra Mitra
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
Shweta Soni
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
🌺 Prodigy Love-22🌹
🌺 Prodigy Love-22🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
Amit Pandey
■ आज का शेर दिल की दुनिया से।।
■ आज का शेर दिल की दुनिया से।।
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी पीर बताते क्यों
अपनी पीर बताते क्यों
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नाविक तू घबराता क्यों है
नाविक तू घबराता क्यों है
Satish Srijan
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
पूर्व जन्म के सपने
पूर्व जन्म के सपने
RAKESH RAKESH
चम-चम चमके चाँदनी
चम-चम चमके चाँदनी
Vedha Singh
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2486.पूर्णिका
2486.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"वेश्या का धर्म"
Ekta chitrangini
✍️दुनियां को यार फिदा कर...
✍️दुनियां को यार फिदा कर...
'अशांत' शेखर
स्वप्न बेचकर  सभी का
स्वप्न बेचकर सभी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*गाजर-हलवा श्रेष्ठतम, मीठे का अभिप्राय (कुंडलिया)*
*गाजर-हलवा श्रेष्ठतम, मीठे का अभिप्राय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ट्यूशन उद्योग
ट्यूशन उद्योग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
Ram Krishan Rastogi
वियोग
वियोग
पीयूष धामी
आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।
आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।
Anil Mishra Prahari
योग क्या है.?
योग क्या है.?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एहसास
एहसास
Vandna thakur
बालगीत :- चाँद के चर्चे
बालगीत :- चाँद के चर्चे
Kanchan Khanna
कुंडलिया
कुंडलिया
दुष्यन्त 'बाबा'
भूल गई
भूल गई
Pratibha Pandey
याद तो हैं ना.…...
याद तो हैं ना.…...
Dr Manju Saini
Loading...