Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2021 · 2 min read

रहे इहाँ जब छोटकी रेल

देखल जा खूब ठेलम ठेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल

चढ़े लोग जत्था के जत्था
छूटे सगरी देहि के बत्था
चेन पुलिंग के तबो जमाना
रुके ट्रेन तब कहाँ कहाँ ना
डब्बा डब्बा लोगवा धावे
टिकट कहाँ केहू कटवावे
कटवावे उ होई महाने
बाकी सब के रामे जाने
जँगला से सइकिल लटका के
बइठे लोग छते पर जा के
अरे बाप रे देखनी लीला
चढ़ऽल रहे उ ले के पीला
छतवे पर कुछ लोग पटा के
चलत रहे केहू अङ्हुआ के
छतवे पर के उ चढ़वैइया
साइत बारे के पढ़वइया
दउरे डब्बा से डब्बा पर
ना लागे ओके तनिको डर
बनऽल रहे लइकन के खेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल

भितरो तनिक रहे ना सासत
केहू छींके केहू खासत
भीड़-भाड़ से भाई सबके
दर्द करे सीना ले दब के
ऊपर से जूता लटका के
बरचा पर बइठे लो जाके
जूता के बदबू से भाई
जात रहऽल सभे अगुताई
घूमें कवनो फेरी वाला
खुलाहा मुँह रहे ना ताला
पान खाइ गाड़ी में थूकल
कहाँ भुलाता बीड़ी धूकल
दारूबाजन के हंगामा
पूर्णविराम ना रहे कामा
पंखा बन्द रहे आ टूटल
शौचालय के पानी रूठल
कोशिश कऽ लऽ यादे आई
दिन बीतऽल उ कहाँ भुलाई
ना पास रहे ना रहे फेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल

असली होखे भीड़ भड़ाका
इस्टेशन जब रूके चाका
कदम कदम पर रेलम रेला
लागे जइसे लागल मेला
उतरे केहू जोर लगा के
अउर चढ़े केहू धकिया के
जोर लगा के सभे ठेले
दमदारे बस आगे हेले
जेकरा में ना रहे बूता
सरके ऊ तऽ सूता सूता
ले के मउगी पेटी बोरा
लइका एगो लेके कोरा
बाँहीं में लटका के झोरा
उतरे खातिर करे निहोरा
मउगी के दिहले सन धाका
टूटल टँगरी गिरलें काका
अइसन अइसन बहुत कहानी
चोरवऽनों के रहे चानी
संजोगे से होखे जेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल

– आकाश महेशपुरी

6 Likes · 6 Comments · 1168 Views
You may also like:
वात्सल्य का शजर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खबर यशोदा लाई है (भक्ति गीत)
Ravi Prakash
पावस की ऐसी रैन सखी
लक्ष्मी सिंह
🚩परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
#मजबूरिया
Dalveer Singh
हृदय परिवर्तन जो 'बुद्ध' ने किया ..।
Buddha Prakash
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
थप्पड़ की गूंज
Shekhar Chandra Mitra
आपकी सोच जीवन बना भी सकती है बिगाढ़ भी सकती...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मानव इतिहास के महानतम् मार्शल आर्टिस्टों में से एक "Bruce...
Pravesh Shinde
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
ग्रहण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
तेरी जान।
Taj Mohammad
Writing Challenge- रहस्य (Mystery)
Sahityapedia
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हाँ! मैं करता हूँ प्यार
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
✍️अग्निपथ...अग्निपथ...✍️
'अशांत' शेखर
गज़ल
Sunita Gupta
मानपत्र
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
"कुछ तो गुन-गुना रही हो"☺️
Lohit Tamta
मेरी वाणी
Seema 'Tu hai na'
" नाखून "
Dr Meenu Poonia
सिलसिला
Shyam Sundar Subramanian
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
ना झुका किसी के आगे
gurudeenverma198
उजालों के घर
सूर्यकांत द्विवेदी
एक कसक इसका
Dr fauzia Naseem shad
Loading...