Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2023 · 1 min read

रही सोच जिसकी

रही सोच जिसकी
जैसी उसने वही तो पाया ।
रोया वही ज़िन्दगी में
जिसने वक्त को गवाया ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
7 Likes · 303 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
आत्मरक्षा
आत्मरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सबके साथ हमें चलना है
सबके साथ हमें चलना है
DrLakshman Jha Parimal
एक कप कड़क चाय.....
एक कप कड़क चाय.....
Santosh Soni
हम जंगल की चिड़िया हैं
हम जंगल की चिड़िया हैं
ruby kumari
Moral of all story.
Moral of all story.
Sampada
खुला आसमान
खुला आसमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बेदर्दी मौसम🙏
बेदर्दी मौसम🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
नेताम आर सी
देश प्रेम
देश प्रेम
Dr Parveen Thakur
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYA PRAKASH SHARMA
संध्या वंदन कीजिए,
संध्या वंदन कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"बचपन"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हर सांस का कर्ज़ बस
हर सांस का कर्ज़ बस
Dr fauzia Naseem shad
सब तेरा है
सब तेरा है
Swami Ganganiya
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
Anand Kumar
होती नहीं अराधना, सोए सोए यार।
होती नहीं अराधना, सोए सोए यार।
Manoj Mahato
राज़ की बात
राज़ की बात
Shaily
ज़िंदगी चाहती है जाने क्या
ज़िंदगी चाहती है जाने क्या
Shweta Soni
चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।
चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
International Hindi Day
International Hindi Day
Tushar Jagawat
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
🏛️ *दालान* 🏛️
🏛️ *दालान* 🏛️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
हज़ारों साल
हज़ारों साल
abhishek rajak
-0 सुविचार 0-
-0 सुविचार 0-
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
Loading...