Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

*रहमत*

कदम तेरी चौखट पर जब सेरखा है
आसमां से भी ऊंचा मेरा सर
लगता है
तेज आँधियाँ है, फिर भी मैं रोशनहूँ
ये सिर्फ तेरी रहमतों का असर
लगता है
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

285 Views
You may also like:
कर्म का मर्म
Pooja Singh
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
बाबू जी
Anoop Sonsi
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मेरे साथी!
Anamika Singh
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पंचशील गीत
Buddha Prakash
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
रफ्तार
Anamika Singh
पिता
Kanchan Khanna
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
Loading...