Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 1 min read

रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत

रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत, चाहते नहीं अब हम यह फसाना।
जख्म वो अभी मिटे नहीं पुराने, चाहते नहीं दिल को फिर से फसाना।।
रहने भी दो यह हमसे ———————–।।

आबाद है हमसे खेलकर वो,करके किनारा चला वो गया है।
एतबार था हमको जिसपे बहुत ही, दिल वो हमारा तोड़ गया है।।
गई याद नहीं अभी उसकी दिल से,आता है याद वह किस्सा पुराना।
रहने भी दो यह हमसे—————-।।

बर्बाद इसमें हम हो गए हैं, बदनाम उसने हमें कर दिया है।
उसका भी था दोष बराबर, इल्जाम हमपे लगा दिया है।।
होती है नफरत मोहब्बत से अब, चाहते नहीं अब मोहब्बत करना।
रहने भी दो यह हमसे ———————।।

हो गई आदत जीने की तन्हा, नहीं अब जरूरत किसी हमसफर की।
रहने दो अब जी. आज़ाद हमको,ख्वाहिश नहीं अब हमें गुलबदन की।।
खुश है बहुत हम यह छोड़कर शौक, नहीं अब हमें इस राह में चलना।
रहने भी दो यह हमसे—————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रदुतिया
रदुतिया
Nanki Patre
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
उलझनें
उलझनें
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
वक़्त की फ़ितरत को
वक़्त की फ़ितरत को
Dr fauzia Naseem shad
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
पूर्वार्थ
बचपन की मोहब्बत
बचपन की मोहब्बत
Surinder blackpen
मां
मां
Lovi Mishra
बुंदेली दोहा- चंपिया
बुंदेली दोहा- चंपिया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
*पीड़ा*
*पीड़ा*
Dr. Priya Gupta
*खुशी लेकर चली आए, सभी के द्वार दीवाली (हिंदी गजल)*
*खुशी लेकर चली आए, सभी के द्वार दीवाली (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
Rituraj shivem verma
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
"बेल की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
❤️🖤🖤🖤❤
❤️🖤🖤🖤❤
शेखर सिंह
नज्म- नजर मिला
नज्म- नजर मिला
Awadhesh Singh
क्या हुआ ???
क्या हुआ ???
Shaily
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
कृष्णकांत गुर्जर
3455🌷 *पूर्णिका* 🌷
3455🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
बेवफाई की फितरत..
बेवफाई की फितरत..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...