Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Oct 2016 · 1 min read

रस लीजिए आध्यात्मिक साहित्यिक : जितेन्द्रकमल आनंद (१११)

राजयोगमहागीता::: अध्याय२१का घनाक्षरी २०
********************
रस लीजिए आध्यात्मिक और साहित्यिक भी,
सेवा कर सामाजिक बन विस्तार कीजिए ।
असमाजिक तत्वों की कीजिए अवहेलना ।
मिल कर सुखद यह संसार कीजिए ।
इस सकल ही पृथ्वी लोक के निवासियों से —
जुड़कर आत्मीयता से परिवार| कीजिए ।
‘ रस — सेवा — विस्तार ‘ का यह सूत्र दूसरा भी ,
मानकर दूसरों को भी उपहार दीजिए ।।
(२१|/ २१/ १०५ पृष्ठ)
**********”””””””””*********
साथ हम क्या लायेलऔर साथ क्या ले जायेंगे।
बंद मुट्ठी आये थे ,पर| खोल मुट्ठी जायेंगे ।
प्रारब्धसे जन्म लिया ,संचित न कर सके,
लायेथे जो साथ वो साथ न ले जायेंगे ।
देहतो है नश्वर ,पर आत्मा अनश्वर है ,
आयेगा जाने का समय , हम चले जायेंगे ।।
—- जितेंद्रकमलआनंद २५–१०–१६ रामपुर ( उ प्र )

Language: Hindi
210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिन माचिस के आग लगा देते हो
बिन माचिस के आग लगा देते हो
Ram Krishan Rastogi
🌹पत्नी🌹
🌹पत्नी🌹
Dr Shweta sood
सच्चाई के खड़ा पक्ष में, मैं निष्पक्ष नहीं हूँ( मुक्तक)
सच्चाई के खड़ा पक्ष में, मैं निष्पक्ष नहीं हूँ( मुक्तक)
Ravi Prakash
नहीं हूँ अब मैं
नहीं हूँ अब मैं
gurudeenverma198
नाम में क्या रखा है
नाम में क्या रखा है
Suryakant Dwivedi
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
क़ब्र में किवाड़
क़ब्र में किवाड़
Shekhar Chandra Mitra
महाराणा प्रताप
महाराणा प्रताप
Satish Srijan
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
चींटी रानी
चींटी रानी
Dr Archana Gupta
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
संजय कुमार संजू
हकीकत
हकीकत
अखिलेश 'अखिल'
मदर्स डे
मदर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
छोटी छोटी चीजें देख कर
छोटी छोटी चीजें देख कर
Dheerja Sharma
हजार आंधियां आये
हजार आंधियां आये
shabina. Naaz
Wakt ko thahra kar kisi mod par ,
Wakt ko thahra kar kisi mod par ,
Sakshi Tripathi
गज़ल
गज़ल
करन ''केसरा''
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
नव लेखिका
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🌸🌼मेरे दिल की मरम्मत कोई न करेगा अब🌼🌸
🌸🌼मेरे दिल की मरम्मत कोई न करेगा अब🌼🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मिस्टर मुंगेरी को
मिस्टर मुंगेरी को
*Author प्रणय प्रभात*
"धन्य प्रीत की रीत.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
* पत्ते झड़ते जा रहे *
* पत्ते झड़ते जा रहे *
surenderpal vaidya
तेरी याद आती है
तेरी याद आती है
Akash Yadav
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
मुहावरे_गोलमाल_नामा
मुहावरे_गोलमाल_नामा
Anita Sharma
Loading...