Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2022 · 1 min read

रसीले आम

बागों की शोभा पीले आम
सुंदर लगते रसीले आम

पेड़ों पर मस्त लटकते हैं
मीठे चहुओर महकते हैं
हवाओं में यूं लहराते हैं
देखकर मन ललचाते है

मनमोहक खिले आम
सुंदर लगते रसीले आम

बिछाकर खाट बगिया में
पहरा देते रात बगिया में
रात भर टपकता आम
हर रोज है पकता आम

कुछ दिनो ही मिले आम
सुंदर लगते रसीले आम

चौसा,किशनभोग,दशहरी ,
लंगड़ा,सफेदा,बिजु,कपूरी
फलों का राजा कहलाता आम
बड़ा,बूढ़ा हर कोई खाता आम

सबको भाते चमकीले आम
सुंदर लगते रसीले आम

नूर फातिमा खातून” नूरी”
जिला-कुशीनगर
उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तहरीर
तहरीर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
विदाई
विदाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
3390⚘ *पूर्णिका* ⚘
3390⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
मेरी मलम की माँग
मेरी मलम की माँग
Anil chobisa
सोचो जो बेटी ना होती
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
कितना खाली खालीपन है !
कितना खाली खालीपन है !
Saraswati Bajpai
" क़ैद में ज़िन्दगी "
Chunnu Lal Gupta
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आह
आह
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यकीं के बाम पे ...
यकीं के बाम पे ...
sushil sarna
#शीर्षक;-ले लो निज अंक मॉं
#शीर्षक;-ले लो निज अंक मॉं
Pratibha Pandey
"स्टिंग ऑपरेशन"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
डॉक्टर रागिनी
घर पर घर
घर पर घर
Surinder blackpen
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
Harminder Kaur
"संघर्ष "
Yogendra Chaturwedi
*गंगा उतरीं स्वर्ग से,भागीरथ की आस (कुंडलिया)*
*गंगा उतरीं स्वर्ग से,भागीरथ की आस (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
■ दिल
■ दिल "पिपरमेंट" सा कोल्ड है भाई साहब! अभी तक...।😊
*Author प्रणय प्रभात*
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...