Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2022 · 1 min read

रवीश कुमार

चाटुकारों की भीड़ में
एक ही तो पत्रकार है!
जिस पर नाज़ है हमें!
वह रवीश कुमार है!!
Shekhar Chandra Mitra
#RavishKumar #BycottNDTV
#अभिव्यक्ति_की_स्वतंत्रता #media
#लोकतंत्र #democracy #सच्चाई

Language: Hindi
158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन में कितना ही धन -धन कर ले मनवा किंतु शौक़ पत्रिका में न
जीवन में कितना ही धन -धन कर ले मनवा किंतु शौक़ पत्रिका में न
Neelam Sharma
अपनी समझ और सूझबूझ से,
अपनी समझ और सूझबूझ से,
आचार्य वृन्दान्त
अनजान दीवार
अनजान दीवार
Mahender Singh
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
■ भगवान भला करे वैज्ञानिकों का। 😊😊
■ भगवान भला करे वैज्ञानिकों का। 😊😊
*प्रणय प्रभात*
आजकल गजब का खेल चल रहा है
आजकल गजब का खेल चल रहा है
Harminder Kaur
उम्र थका नही सकती,
उम्र थका नही सकती,
Yogendra Chaturwedi
उफ़ ये कैसा असर दिल पे सरकार का
उफ़ ये कैसा असर दिल पे सरकार का
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*बदलना और मिटना*
*बदलना और मिटना*
Sûrëkhâ
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
sushil sarna
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
AMRESH KUMAR VERMA
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
कभी-कभी
कभी-कभी
Ragini Kumari
I want to hug you
I want to hug you
VINOD CHAUHAN
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिंदगी बहुत प्यार, करता हूँ मैं तुमको
जिंदगी बहुत प्यार, करता हूँ मैं तुमको
gurudeenverma198
कितनी सहमी सी
कितनी सहमी सी
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
*नर से कम नहीं है नारी*
*नर से कम नहीं है नारी*
Dushyant Kumar
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
Sonam Puneet Dubey
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
मां की प्रतिष्ठा
मां की प्रतिष्ठा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*नगर अयोध्या ने अपना फिर, वैभव शुचि साकार कर लिया(हिंदी गजल)
*नगर अयोध्या ने अपना फिर, वैभव शुचि साकार कर लिया(हिंदी गजल)
Ravi Prakash
2685.*पूर्णिका*
2685.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
Loading...