Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2022 · 3 min read

रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ

*रति वर्णवृत्त में तेवरी-1
**********
खल हैं सखी
मल हैं सखी।

जन से करें
छल हैं सखी।

सब विष-भरे
फल हैं सखी।

सुख के कहाँ
पल हैं सखी।

नयना हुए
नल हैं सखी।
*रमेशराज

*विमोहा वर्णिक छंद में तेवरी-2
***********
आन को रोइए
मान को रोइए।

बारहा खो रही
शान को रोइए।

कौन दे रोटियां
दान को रोइए।

पीर को जो सुने
कान को रोइए।

चीख़ ही चीख़ हैं
गान को रोइए।
*रमेशराज

*विमोहा वर्णिक छंद में तेवरी-3
**********
आज ये हाल हैं
जाल ही जाल हैं।

लापता है नदी
सूखते ताल हैं।

सन्त हैं नाम के
खींचते खाल हैं।

क्या गली क्या मकां
खून से लाल हैं।

गर्दनों पे छुरी
थाप को गाल हैं।
*रमेशराज

*तेवरी-4
( राजभा राजभा )
**********
आपदा शारदे
ले बचा शारदे!

घोंटती है गला
ये हवा शारदे!

मातमी मातमी
है फ़िजा शारदे!

खत्म हो खत्म हो
ये निशा शारदे!

डाल पे गा उठे
कोकिला शारदे।
* रमेशराज

* रति वर्णवृत्त में तेवरी-5
*******
हम हीन हैं
अति दीन हैं।

सब बस्तियां
ग़मगीन हैं।

उत जाल-से
जित मीन हैं।

चुप बाँसुरी
गुम बीन हैं।

दुःख से भरे
अब सीन हैं।
*रमेशराज

*विमोहा वर्णवर्त्त में तेवरी-6
**********
ज़िन्दगी लापता
रोशनी लापता।

फूल जैसी दिखे
वो खुशी लापता।

होंठ नाशाद हैं
बाँसुरी लापता।

लोग हैवान-से
आदमी लापता।

प्यार की मानिए
है नदी लापता।
*रमेशराज

*रति वर्णवृत्त में तेवरी-7
**********
खल हैं सखी
मल हैं सखी।

जन से करें
छल हैं सखी।

सब विष-भरे
फल हैं सखी।

सुख के कहाँ
पल हैं सखी।

नयना दिखें
नल हैं सखी।
*रमेशराज

तेवरी-8
।।तिलका वर्णिक छंद ।।
सलगा सलगा।।
**********
हर बार मिले
बस प्यार मिले।

बढ़ते दुःख का
उपचार मिले।

नित फूल खिलें
जित खार मिले।

मन के मरु को
जलधार मिले।
*रमेशराज

*विमोहा वर्णिक छंद में तेवरी-9
।।राजभा राजभा।।
**********
प्रेम की थाह में
आदमी डाह में।

रोशनी लापता
तीरगी राह में।

जो रहे वाह में
आज हैं आह में।

प्रेम की ये दशा
देह है चाह में।

क्या मिला सोचिए
आपको दाह में।
*रमेशराज

*।। तेवरी-10
।। विमोहा वर्णिक छंद।।
राजभा राजभा
**************
आग ही आग है
बेसुरा राग है।

बस्तियां राख हैं
गाइये फ़ाग है।

खो गये हैं गुणा
भाग ही भाग है।

आह का डाह का
दंशता नाग है।

है खिजां ही खिजां
सूखता बाग है।
*रमेशराज

तेवरी-11
।। विमोहा वर्णिक छंद।।
राजभा राजभा
**************
आग ही आग है
बेसुरा राग है।

बस्तियां राख हैं
गाइये फ़ाग है।

खो गये हैं गुणा
भाग ही भाग है।

आह का डाह का
दंशता नाग है।

है खिजां ही खिजां
सूखता बाग है।
*रमेशराज

*तेवरी-12
।।तिलका वर्णिक छंद।।
सलगा सलगा
**********
बचना ग़म से
इस मातम से।

यह दौर बुरा
सब हैं यम-से।

अब तो रहते
नयना नम-से।

अब लोग दिखें
जग में बम-से।

हम ‘गौतम’ हैं
मिलना हम से।
*रमेशराज

*तेवरी-13
।। राजभा राजभा।।
********************
आप तो आप हैं
बॉस हैं, बाप हैं।

आप हैं तो यहाँ
पाप ही पाप हैं।

आप है बर्फ़-से
आप ही भाप हैं।

मौत के मातमी
आपसे जाप हैं।

वक़्त के गाल पे
आप ही थाप हैं।
*रमेशराज

*तेवरी-14
।। राजभा राजभा।।
**********
आप तो आप हैं
बॉस हैं, बाप हैं।

आप हैं तो यहाँ
पाप ही पाप हैं।

आप है बर्फ़-से
आप ही भाप हैं।

मौत के मातमी
आपसे जाप हैं।

वक़्त के गाल पे
आप ही थाप हैं।
*रमेशराज

*तिलका वर्णिक छंद में तेवरी-15
(सलगा सलगा)
**********
मुसकान गयी
मधुतान गयी।

अब बेघर हैं
हर शान गयी।

इतने बदले
पहचान गयी।

दुःख ही दुःख हैं
सुख-खान गयी।

तम से लड़ते
अब जान गयी।
रमेशराज

तेवरी-16
*********
आप महान
सुनो श्रीमान।

पहले लूट
करो फिर दान।

माईबाप
आपसे प्रान।

आप पहाड़
गए हम जान।

गर्दभ-राग
आपकी शान।

नेता-रूप!!
धन्य भगवान।
*रमेशराज
*************
15/109, ईसानगर, अलीगढ़

Language: Hindi
542 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-441💐
💐प्रेम कौतुक-441💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुस्तक
पुस्तक
Sangeeta Beniwal
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
वैविध्यपूर्ण भारत
वैविध्यपूर्ण भारत
ऋचा पाठक पंत
3103.*पूर्णिका*
3103.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस...
राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमसे तुम वजनदार हो तो क्या हुआ,
हमसे तुम वजनदार हो तो क्या हुआ,
Umender kumar
जी-२० शिखर सम्मेलन
जी-२० शिखर सम्मेलन
surenderpal vaidya
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
White patches
White patches
Buddha Prakash
इतनी उम्मीदें
इतनी उम्मीदें
Dr fauzia Naseem shad
"राष्टपिता महात्मा गांधी"
Pushpraj Anant
सदा बेड़ा होता गर्क
सदा बेड़ा होता गर्क
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
आश किरण
आश किरण
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
क्या....
क्या....
हिमांशु Kulshrestha
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
*गीता - सार* (9 दोहे)
*गीता - सार* (9 दोहे)
Ravi Prakash
#हँसी
#हँसी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
यह समय / MUSAFIR BAITHA
यह समय / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Sakshi Tripathi
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
पूर्वार्थ
Loading...