Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 1 min read

रब करे हमारा प्यार इतना सच्चा हो,

रब करे हमारा प्यार इतना सच्चा हो,
कि तू रहे किसी और के साथ भी
पर तुझे याद मेरी ही आए

©️ डॉ. शशांक शर्मा “रईस”

41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
goutam shaw
चुनिंदा अश'आर
चुनिंदा अश'आर
Dr fauzia Naseem shad
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
कवि दीपक बवेजा
कल आज और कल
कल आज और कल
Omee Bhargava
गांव जीवन का मूल आधार
गांव जीवन का मूल आधार
Vivek Sharma Visha
#लघु_व्यंग्य
#लघु_व्यंग्य
*प्रणय प्रभात*
❤️
❤️
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
राम की रहमत
राम की रहमत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
No battles
No battles
Dhriti Mishra
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
शेखर सिंह
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
तर्क-ए-उल्फ़त
तर्क-ए-उल्फ़त
Neelam Sharma
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Mamta Singh Devaa
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
Vinit kumar
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
3 *शख्सियत*
3 *शख्सियत*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
Anand Kumar
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
छोटे दिल वाली दुनिया
छोटे दिल वाली दुनिया
ओनिका सेतिया 'अनु '
सपने
सपने
Santosh Shrivastava
ईश ......
ईश ......
sushil sarna
23/205. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/205. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छंद मुक्त कविता : जी करता है
छंद मुक्त कविता : जी करता है
Sushila joshi
Loading...