Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2016 · 1 min read

रदीफों की वफा हो हासिलों से—- गज़ल

रदीफों की वफा हो हासिलों से
गज़ल का नूर होता काफिओं से

वही जाते सलामत मंजिलों तक
जो करते प्यार हैं अपने परों से

न बच्चों को जरा तहज़ीब दें वो
बँधे ममता की प्यारी रस्सिओं से

रही खुशफहमियां कुछ हुस्न को थी
वो हैरां आइने की चुप्पिओं से

न छेडो इन फफोलों को जरा भी
कई जज़्बात डरते उँगलिओं से

हिमाकत और सिआसत सांसदों की
कलंक लगा वतन पर जाहिलों से

किनारे ढूँढ कर हारे नदी के
वफा मिलती कहां है कश्तिओं से

उठाये कौन गिरते अदमी को
कहां है खून अब वो धमनिओं मे

कही होती कभी निर्मल से मुश्किल
बचा लेती तुम्हें उन आफतों से

535 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
न जाने क्या ज़माना चाहता है
न जाने क्या ज़माना चाहता है
Dr. Alpana Suhasini
बालबीर भारत का
बालबीर भारत का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
तैराक (कुंडलिया)
तैराक (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
उदघोष
उदघोष
DR ARUN KUMAR SHASTRI
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
Kirti Aphale
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
Sidhartha Mishra
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
*प्रेम भेजा  फ्राई है*
*प्रेम भेजा फ्राई है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ
माँ
लक्ष्मी सिंह
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-118💐
💐अज्ञात के प्रति-118💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
शायरी संग्रह
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Rashmi Sanjay
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
हाल अब मेरा
हाल अब मेरा
Dr fauzia Naseem shad
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
चलते चलते
चलते चलते
ruby kumari
धूल में नहाये लोग
धूल में नहाये लोग
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Sanjay ' शून्य'
परोपकार का भाव
परोपकार का भाव
Buddha Prakash
Loading...