Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2022 · 1 min read

रथ रुक गया

रथ स्वर्णिम रुक गया
खींच ली किसने डोर
आह! हस्ताक्षर भूला
वो, थी अरुणिम भोर

हुई मुद्दत, देखा नहीं
मन का हमने क्षितिज
यूँ लिखे गीत अनगिन
भावना के कटु रचित

कोई तो सागर गिना दो
ला दो खो गया जो सीप
अगस्त्य जल पी गये हैं
बुझ गये आशा के दीप

अपनी सब कह रहे हैं
सुनने वाला कोई नहीं
व्यर्थ संजय कह रहे हो
महाभारत तो है ही नहीं।

छोड़ दें जब आंखें हया
और न हो मन में व्यथा
द्रोपदी की लाज ख़ातिर
सुने कौन कौरव कथा।।

निष्प्राण प्राण रण में पड़े
और कायर निज वीर कहें
क्या कहूँ मैं गीता अर्जुन !
कहे कलयुग सब वेद पढ़े।।

सभी यहाँ पर संत ज्ञानी
कहना सुनना सब बेमानी
निर्लिप्त निर्जल ओ ! धरा
सोख ले,आंखों का पानी।।

सूर्यकान्त

Language: Hindi
2 Likes · 119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Suryakant Dwivedi
View all
You may also like:
काजल
काजल
SHAMA PARVEEN
धीरे-धीरे समय सफर कर गया
धीरे-धीरे समय सफर कर गया
Pratibha Kumari
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
Lekh Raj Chauhan
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
Aadarsh Dubey
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
नहीं जा सकता....
नहीं जा सकता....
Srishty Bansal
SADGURU IS TRUE GUIDE…
SADGURU IS TRUE GUIDE…
Awadhesh Kumar Singh
बाबू जी
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"ब्रेजा संग पंजाब"
Dr Meenu Poonia
हीरा बा
हीरा बा
मृत्युंजय कुमार
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
पूर्वार्थ
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
जब आओगे तुम मिलने
जब आओगे तुम मिलने
Shweta Soni
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
चेतावनी
चेतावनी
Shekhar Chandra Mitra
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पानी
पानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
2524.पूर्णिका
2524.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीवन में सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मैं स्वयं को मानती हूँ
जीवन में सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मैं स्वयं को मानती हूँ
ruby kumari
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*सो जा मेरी मुनिया रानी (बाल कविता)*
*सो जा मेरी मुनिया रानी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मैं भारत हूं (काव्य)
मैं भारत हूं (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
पेड़ नहीं, बुराइयां जलाएं
पेड़ नहीं, बुराइयां जलाएं
अरशद रसूल बदायूंनी
Loading...