Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत

रचनात्मकता की ज्वाला, हमें जगा दो,
आविष्कार के पथ पर, हमें ले चला दो।

अद्भुत कला के रंग में, हमें लिपटा दो,
अभिव्यक्ति की आग में, हमें जला दो।

अविचारित विचारों को, वचनों में बदल दो,
विचारधारा की लहरों को, हमें संगीत में बहा दो।

शब्दों के सौंदर्य को, अपने काव्य में छिपा दो,
चित्रों की ख्वाहिशों को, रचनाओं में सजा दो।

विरासत के अरमानों को, प्रकाश में जला दो,
साहित्य की मधुर गाथाओं को, हमें सुना दो।

चिंतन के आदान-प्रदान में, मन को बँधा दो,
कल्पना की उड़ानों को, हमें आकाश में उड़ा दो।

रचनात्मकता के सौंदर्य को, दुनिया के सामने लाओ,
मन, हृदय और आत्मा को, साहित्य की उच्छवास दो।

हर एक पंक्ति से निकले, कविता के स्वर को बनाओ,
रचनात्मकता को जगाने, हर रोज़ कुछ नया कराओ।

211 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
■ प्रबुद्धों_के_लिए
■ प्रबुद्धों_के_लिए
*Author प्रणय प्रभात*
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
Maier Rajesh Kumar Yadav
" मैं तन्हा हूँ "
Aarti sirsat
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
ऐसी बरसात भी होती है
ऐसी बरसात भी होती है
Surinder blackpen
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
आर.एस. 'प्रीतम'
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
Sakhawat Jisan
भूखे भेड़िये हैं वो,
भूखे भेड़िये हैं वो,
Maroof aalam
आज का बदलता माहौल
आज का बदलता माहौल
Naresh Sagar
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
* नव जागरण *
* नव जागरण *
surenderpal vaidya
3269.*पूर्णिका*
3269.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
सत्य कुमार प्रेमी
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दोहे तरुण के।
दोहे तरुण के।
Pankaj sharma Tarun
मयस्सर नहीं अदब..
मयस्सर नहीं अदब..
Vijay kumar Pandey
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
सांत्वना
सांत्वना
भरत कुमार सोलंकी
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
कहो तो..........
कहो तो..........
Ghanshyam Poddar
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
goutam shaw
*वृद्धावस्था : सात दोहे*
*वृद्धावस्था : सात दोहे*
Ravi Prakash
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
Loading...