Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2024 · 1 min read

रक्षा बंधन

🥀⭐🍁⭐☘️🌸⭐🥀
ये भाई-बहन का त्यौहार है
इसमें खुशियाँ और प्यार है
रक्षा के बंधन मे बंधने को
हर कोई तैयार है
रक्षा करे बहनों की
ये हर भाई का अधिकार है
इन निर्मल नन्हें धागों से
बढता प्यार और सम्मान है
कहने को ये धागे है
प्यार की सौगात है
विश्वास की दो आँखें है
जो भाई-बहन के प्यार को
एक बंधन से बांधे है
ये भाई-बहन का त्यौहार है
इसमें खुशियाँ और प्यार है
** ** *** ** **
🥀🌼🌺🌹🌼🌹🌺🌼🥀
🦋 Swami ganganiya 🦋

Language: Hindi
1 Like · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सोन चिरैया
सोन चिरैया
Mukta Rashmi
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
gurudeenverma198
अध्यापक दिवस
अध्यापक दिवस
SATPAL CHAUHAN
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
"महंगाई"
Slok maurya "umang"
राष्ट्रीय किसान दिवस
राष्ट्रीय किसान दिवस
Akash Yadav
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
Lokesh Sharma
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"चांदनी के प्रेम में"
Dr. Kishan tandon kranti
कर्म ही हमारे जीवन...... आईना
कर्म ही हमारे जीवन...... आईना
Neeraj Agarwal
मैं
मैं
Vivek saswat Shukla
दोहे
दोहे
गुमनाम 'बाबा'
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
खुशी कोई वस्तु नहीं है,जो इसे अलग से बनाई जाए। यह तो आपके कर
खुशी कोई वस्तु नहीं है,जो इसे अलग से बनाई जाए। यह तो आपके कर
Paras Nath Jha
धर्म निरपेक्षता
धर्म निरपेक्षता
ओनिका सेतिया 'अनु '
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
Raju Gajbhiye
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
*प्रणय प्रभात*
खुद की अगर खुद से
खुद की अगर खुद से
Dr fauzia Naseem shad
संवादरहित मित्रता, मूक समाज और व्यथा पीड़ित नारी में परिवर्तन
संवादरहित मित्रता, मूक समाज और व्यथा पीड़ित नारी में परिवर्तन
DrLakshman Jha Parimal
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
दीवाली
दीवाली
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
3046.*पूर्णिका*
3046.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...