Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2023 · 1 min read

रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत

रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होता है कि उसका असली रंग और रूप तो दुनिया पहले से ही देख चुकी हुई है

उसे तो लगता है कि रंग बदल-बदल कर वो दुनिया को बेवकूफ़ बना रहा है

जबकी अपने नित प्रतिदिन बदलते रंगों के कारण वो दुनिया के समक्ष कबका बेवकूफ़ साबित हो चुका होता है

सीमा वर्मा

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

481 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Seema Verma
View all
You may also like:
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
Phool gufran
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*हमारे कन्हैया*
*हमारे कन्हैया*
Dr. Vaishali Verma
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
2475.पूर्णिका
2475.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Sakshi Tripathi
22, *इन्सान बदल रहा*
22, *इन्सान बदल रहा*
Dr Shweta sood
माँ के लिए बेटियां
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
gurudeenverma198
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
“POLITICAL THINKING COULD BE ALSO A HOBBY”
“POLITICAL THINKING COULD BE ALSO A HOBBY”
DrLakshman Jha Parimal
I am Cinderella
I am Cinderella
Kavita Chouhan
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
Ranjeet kumar patre
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
Shyam Pandey
देर तक मैंने आईना देखा
देर तक मैंने आईना देखा
Dr fauzia Naseem shad
* अपना निलय मयखाना हुआ *
* अपना निलय मयखाना हुआ *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
Sadhavi Sonarkar
बेफिक्री की उम्र बचपन
बेफिक्री की उम्र बचपन
Dr Parveen Thakur
बच्चे बूढ़े और जवानों में
बच्चे बूढ़े और जवानों में
विशाल शुक्ल
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
Neeraj Agarwal
माँ तेरा ना होना
माँ तेरा ना होना
shivam kumar mishra
"कवियों की हालत"
Dr. Kishan tandon kranti
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
दूर देदो पास मत दो
दूर देदो पास मत दो
Ajad Mandori
*अध्याय 2*
*अध्याय 2*
Ravi Prakash
Loading...