Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2024 · 1 min read

रंगों का त्योहार है होली।

रंगों का त्योहार है होली।
प्रेम भरा व्यवहार होली।

कई रंग में रंग जाये तन,
इन्द्रधनुष तब बन जाए मन।
अपनों के संग हिलमिल जायें,
जो रूठे है उन्हें मनाएं।

स्वजनों से मनुहार है होली।
रंगों का त्योहार है होली।

मिलकर आलिंगन कर लीजै,
श्वेत श्याम जीवन न कीजै।
हो बेरंग तो पन सूना है,
रंग हर्ष करता दूना है।

अनुपम सा उपहार है होली,
रंगों का त्योहार है होली।

फागुन में जब होली आती,
अवनी रंगोली बन जाती।
हंसी ठिठोली जन करते हैं,
फाग आनंदित मन करते हैं।

भीगे कुर्ता चुनरी चोली,
रंगों का त्योहार है होली।

अग्नि होलिका की दहकन है,
घर घर गुझिया की महकन है।
बहन बेटियां मायके आयीं,
एक दूजे के मन को भायीं।

हंसी खुशी परिहास की बोली,
रंगों का त्योहार है होली।

Language: Hindi
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
सत्य कुमार प्रेमी
23/03.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/03.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
gurudeenverma198
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
Dr fauzia Naseem shad
मे गांव का लड़का हु इसलिए
मे गांव का लड़का हु इसलिए
Ranjeet kumar patre
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
चक्रव्यूह की राजनीति
चक्रव्यूह की राजनीति
Dr Parveen Thakur
आगोश में रह कर भी पराया रहा
आगोश में रह कर भी पराया रहा
हरवंश हृदय
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
Sanjay ' शून्य'
माँ मेरी जादूगर थी,
माँ मेरी जादूगर थी,
Shweta Soni
तलाश हमें  मौके की नहीं मुलाकात की है
तलाश हमें मौके की नहीं मुलाकात की है
Tushar Singh
मेरी पहचान!
मेरी पहचान!
कविता झा ‘गीत’
एक चतुर नार
एक चतुर नार
लक्ष्मी सिंह
"दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है
शेखर सिंह
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन  में  नव  नाद ।
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन में नव नाद ।
sushil sarna
*जीवन के संघर्षों में कुछ, पाया है कुछ खोया है (हिंदी गजल)*
*जीवन के संघर्षों में कुछ, पाया है कुछ खोया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
स्मृति शेष अटल
स्मृति शेष अटल
कार्तिक नितिन शर्मा
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नव उल्लास होरी में.....!
नव उल्लास होरी में.....!
Awadhesh Kumar Singh
जय बोलो मानवता की🙏
जय बोलो मानवता की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक तो धर्म की ओढनी
एक तो धर्म की ओढनी
Mahender Singh
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
साहित्य में प्रेम–अंकन के कुछ दलित प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
साहित्य में प्रेम–अंकन के कुछ दलित प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
DrLakshman Jha Parimal
"गजब के नजारे"
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
जीनी है अगर जिन्दगी
जीनी है अगर जिन्दगी
Mangilal 713
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
*Author प्रणय प्रभात*
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
" मैं फिर उन गलियों से गुजरने चली हूँ "
Aarti sirsat
Loading...