Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jun 21, 2016 · 1 min read

योग

1
सुख सुविधाओं का नहीं ,बनना कभी गुलाम
तन को देकर कष्ट कुछ, नित्य करो व्यायाम
2
योगासन यदि नित करो , दूर रहेंगे मर्ज़
करना लोगों को सजग, हम सबका है फ़र्ज़
3
तन मन दोनों की सदा,बनी रहेगी खैर
रोज सवेरे यदि करो, तेज़ कदम से सैर
4
सांसों का बस खेल है, कहते जिसको योग
करते हैं ये बिन दवा,ठीक यहाँ सब रोग
5
जम कर करती है वसा, दिल का ट्रैफिक जाम
पिघला सकते हैं इसे, करके प्राणायाम
6
करो मानकर साधना, नित्य योगाभ्यास
तन मन चुस्त दुरुस्त हो, बढ़े आत्मविश्वास
7
भोगवाद को छोड़कर, करो रोज ही योग
बीमारी से दूर रह, काया बने निरोग
8
साँसों की गतिशीलता , हैअनुलोम विलोम
हरकर सब अवसाद दे, परम शांति ओम

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद

8 Likes · 6 Comments · 2273 Views
You may also like:
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
प्यार
Anamika Singh
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
इश्क
Anamika Singh
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
आओ तुम
sangeeta beniwal
पिता की याद
Meenakshi Nagar
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
Loading...