Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2016 · 1 min read

योग

1
सुख सुविधाओं का नहीं ,बनना कभी गुलाम
तन को देकर कष्ट कुछ, नित्य करो व्यायाम
2
योगासन यदि नित करो , दूर रहेंगे मर्ज़
करना लोगों को सजग, हम सबका है फ़र्ज़
3
तन मन दोनों की सदा,बनी रहेगी खैर
रोज सवेरे यदि करो, तेज़ कदम से सैर
4
सांसों का बस खेल है, कहते जिसको योग
करते हैं ये बिन दवा,ठीक यहाँ सब रोग
5
जम कर करती है वसा, दिल का ट्रैफिक जाम
पिघला सकते हैं इसे, करके प्राणायाम
6
करो मानकर साधना, नित्य योगाभ्यास
तन मन चुस्त दुरुस्त हो, बढ़े आत्मविश्वास
7
भोगवाद को छोड़कर, करो रोज ही योग
बीमारी से दूर रह, काया बने निरोग
8
साँसों की गतिशीलता , हैअनुलोम विलोम
हरकर सब अवसाद दे, परम शांति ओम

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद

Language: Hindi
8 Likes · 6 Comments · 2533 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
Never trust people who tells others secret
Never trust people who tells others secret
Md Ziaulla
Blood relationships sometimes change
Blood relationships sometimes change
pratibha5khatik
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
लज्जा
लज्जा
Shekhar Chandra Mitra
"पलायन"
Dr. Kishan tandon kranti
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
स्वप्न बेचकर  सभी का
स्वप्न बेचकर सभी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
धड़कन से धड़कन मिली,
धड़कन से धड़कन मिली,
sushil sarna
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
धूम मची चहुँ ओर है, होली का हुड़दंग ।
धूम मची चहुँ ओर है, होली का हुड़दंग ।
Arvind trivedi
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
Dheerja Sharma
मैं तो महज संसार हूँ
मैं तो महज संसार हूँ
VINOD CHAUHAN
आपको हम
आपको हम
Dr fauzia Naseem shad
■ छोटी सी नज़्म...
■ छोटी सी नज़्म...
*Author प्रणय प्रभात*
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
Suryakant Dwivedi
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
विमला महरिया मौज
*गोरे से काले हुए, रोगों का अहसान (दोहे)*
*गोरे से काले हुए, रोगों का अहसान (दोहे)*
Ravi Prakash
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
कालः  परिवर्तनीय:
कालः परिवर्तनीय:
Bhupendra Rawat
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
2492.पूर्णिका
2492.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-504💐
💐प्रेम कौतुक-504💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
Acharya Rama Nand Mandal
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
Loading...