Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2016 · 1 min read

ये है मुहब्बत का बैंक

आने वाली बुक ,इश्क़ मुकम्मल, से एक शेर आपकी नजर

है ये मुहब्बत का बैंक प्यारे
यहाँ कोई उधार खाता नही चलता
होती है हमेशा जज़्बों की बारिश
फिर कोई छाता नही चलता
*************************
कपिल कुमार
23/08/2016

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Comment · 243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी …….
मेरी …….
Sangeeta Beniwal
"शिक्षक"
Dr. Kishan tandon kranti
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
कवि दीपक बवेजा
सोने की चिड़िया
सोने की चिड़िया
Bodhisatva kastooriya
राह पर चलना पथिक अविराम।
राह पर चलना पथिक अविराम।
Anil Mishra Prahari
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
**आजकल के रिश्ते*
**आजकल के रिश्ते*
Harminder Kaur
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
घणो ललचावे मन थारो,मारी तितरड़ी(हाड़ौती भाषा)/राजस्थानी)
घणो ललचावे मन थारो,मारी तितरड़ी(हाड़ौती भाषा)/राजस्थानी)
gurudeenverma198
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
Sanjay ' शून्य'
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
ख़ाली हाथ
ख़ाली हाथ
Shashi Mahajan
इस नये दौर में
इस नये दौर में
Surinder blackpen
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
कवि रमेशराज
ये आप पर है कि ज़िंदगी कैसे जीते हैं,
ये आप पर है कि ज़िंदगी कैसे जीते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
​जिंदगी के गिलास का  पानी
​जिंदगी के गिलास का पानी
Atul "Krishn"
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
sushil sarna
भारत हमारा
भारत हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
संतोष बरमैया जय
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
manjula chauhan
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
😊अनुभूति😊
😊अनुभूति😊
*प्रणय प्रभात*
2487.पूर्णिका
2487.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
पूर्वार्थ
अधूरी कहानी (कविता)
अधूरी कहानी (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
शिव स्तुति महत्व
शिव स्तुति महत्व
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...