Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

ये मेरे घर की चारदीवारी भी अब मुझसे पूछती है

ये मेरे घर की चारदीवारी भी अब मुझसे पूछती है

वह नूर कहां है –

जिनके आने से कभी यह घर रोशन हुआ करता था

उफ्फ अब तो आ जाओ !!

1 Like · 453 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिखावा
दिखावा
Swami Ganganiya
"*पिता*"
Radhakishan R. Mundhra
💐प्रेम कौतुक-542💐
💐प्रेम कौतुक-542💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुज़ारिश आसमां से है
गुज़ारिश आसमां से है
Sangeeta Beniwal
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
देशभक्ति पर दोहे
देशभक्ति पर दोहे
Dr Archana Gupta
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
Anil Mishra Prahari
*सबको बुढापा आ रहा, सबकी जवानी ढल रही (हिंदी गजल)*
*सबको बुढापा आ रहा, सबकी जवानी ढल रही (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
2669.*पूर्णिका*
2669.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
Khaimsingh Saini
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तुम्हें लगता है, मैं धोखेबाज हूँ ।
तुम्हें लगता है, मैं धोखेबाज हूँ ।
Dr. Man Mohan Krishna
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बदनाम
बदनाम
Neeraj Agarwal
तुझे खुश देखना चाहता था
तुझे खुश देखना चाहता था
Kumar lalit
SHELTER OF LIFE
SHELTER OF LIFE
Awadhesh Kumar Singh
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
वो मेरी कविता
वो मेरी कविता
Dr.Priya Soni Khare
क्यूँ भागती हैं औरतें
क्यूँ भागती हैं औरतें
Pratibha Pandey
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कविता : आँसू
कविता : आँसू
Sushila joshi
बिहार, दलित साहित्य और साहित्य के कुछ खट्टे-मीठे प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
बिहार, दलित साहित्य और साहित्य के कुछ खट्टे-मीठे प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सहजता
सहजता
Sanjay ' शून्य'
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...