Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है

ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
जान ये भी ले के दुनिया हर पैतरा पता है
पते की बात है के बहुत कुछ पता है…
तूँ.. तेरी जात.. और तेरा शजरा पता है
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

1 Like · 493 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*ये झरने गीत गाते हैं, सुनो संगीत पानी का (मुक्तक)*
*ये झरने गीत गाते हैं, सुनो संगीत पानी का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
प्रेम
प्रेम
Bodhisatva kastooriya
......... ढेरा.......
......... ढेरा.......
Naushaba Suriya
कॉफ़ी की महक
कॉफ़ी की महक
shabina. Naaz
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
The_dk_poetry
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मिलना हम मिलने आएंगे होली में।
मिलना हम मिलने आएंगे होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ शारदे-लीला
माँ शारदे-लीला
Kanchan Khanna
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
* अपना निलय मयखाना हुआ *
* अपना निलय मयखाना हुआ *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ कटाक्ष...
■ कटाक्ष...
*Author प्रणय प्रभात*
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
कहां से कहां आ गए हम..!
कहां से कहां आ गए हम..!
Srishty Bansal
समर्पण
समर्पण
Sanjay ' शून्य'
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
खूबसूरत जिंदगी में
खूबसूरत जिंदगी में
Harminder Kaur
" यही सब होगा "
Aarti sirsat
गज़ब की शीत लहरी है सहन अब की नहीं जाती
गज़ब की शीत लहरी है सहन अब की नहीं जाती
Dr Archana Gupta
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
Arvind trivedi
भूल जा इस ज़माने को
भूल जा इस ज़माने को
Surinder blackpen
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
gurudeenverma198
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
Ajay Kumar Vimal
आज का मानव
आज का मानव
Shyam Sundar Subramanian
चुनाव चालीसा
चुनाव चालीसा
विजय कुमार अग्रवाल
गाय
गाय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तितली थी मैं
तितली थी मैं
Saraswati Bajpai
Loading...