Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

ये न पूछ के क़ीमत कितनी है

ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
बस मान ले हकीकत जितनी है
शेयर मार्केट सा हो गया है रिश्ता
अबतो
बुलंदी पे है तो बिकेगा बेतहाशा
नहीं तो रद्दी के भाव बिकनी है
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नशा
नशा
Ram Krishan Rastogi
हम करें तो...
हम करें तो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"इंसान की जमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
*.....उन्मुक्त जीवन......
*.....उन्मुक्त जीवन......
Naushaba Suriya
*तुम्हारा साथ जब मिलता है, तो मस्ती के क्या कहने (मुक्तक)*
*तुम्हारा साथ जब मिलता है, तो मस्ती के क्या कहने (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सब छोड़कर अपने दिल की हिफाजत हम भी कर सकते है,
सब छोड़कर अपने दिल की हिफाजत हम भी कर सकते है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
ख़बर ही नहीं
ख़बर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
Dushyant Kumar
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
💐अज्ञात के प्रति-85💐
💐अज्ञात के प्रति-85💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
VINOD CHAUHAN
**विकास**
**विकास**
Awadhesh Kumar Singh
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ़ लेना सरकार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ़ लेना सरकार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
एक सबक इश्क का होना
एक सबक इश्क का होना
AMRESH KUMAR VERMA
बाबा साहब की अंतरात्मा
बाबा साहब की अंतरात्मा
जय लगन कुमार हैप्पी
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"सुरेंद्र शर्मा, मरे नहीं जिन्दा हैं"
Anand Kumar
पिता
पिता
Sanjay ' शून्य'
श्रेष्ठ भावना
श्रेष्ठ भावना
Raju Gajbhiye
बचपन
बचपन
Dr. Seema Varma
चाहे मिल जाये अब्र तक।
चाहे मिल जाये अब्र तक।
Satish Srijan
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
कवि दीपक बवेजा
मुरली कि धुन,
मुरली कि धुन,
Anil chobisa
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
कृष्णकांत गुर्जर
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
★मां ★
★मां ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
23/123.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/123.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
काश यह मन एक अबाबील होता
काश यह मन एक अबाबील होता
Atul "Krishn"
Loading...